राहुल पर पीएम का पलटवार: कहा, कर्नाटक चुनाव परिणाम आने के बाद पीपीपी रह जाएगी कांग्रेस

बेंगलुरु। शिमोगा के गडग में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर तीखा हमला बोला और पूरे भाषण में कांग्रेस को भ्रष्टाचारी बताते हुए जनसमूह से कांग्रेस को राज्य से उखाड़ फेंकने की अपील की।
पीएम ने कहा कि 15 मई को परिणाम आने के बाद कांग्रेस पीपीपी यानी कि पंजाब-पुडुचेरी परिवार कांग्रेस रह जाएगी।
कर्नाटक विधानसभा चुनाव में अब एक हफ्ते का समय शेष बचा है और बीजेपी-कांग्रेस की जोर-आजमाइश जारी है।
पीएम ने यहां कांग्रेस पर तीखा हमला बोलते हुए कहा, ‘कर्नाटक में कांग्रेस ने सब-कुछ दांव पर लगा दिया है और बंटवारे की राजनीति कर चुनाव जीतने के लिए छटपटा रही है, सरकार बनाने के लिए तड़प रही है। पिछले समय में कांग्रेस गोवा, गुजरात, गोवा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल, त्रिपुरा सब हारती गई। देश के हर कोने में जनता ने कांग्रेस को साफ कर दिया।’ पीएम ने कहा कि कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया के लिए तो बाप-भैया से पहले रुपैया आता है और यह सरकार भ्रष्टाचार में लिप्त है।
कर्नाटक में कांग्रेस का करप्शन टैंक
पीएम मोदी ने कहा, ‘देश भर में मिली हार से कांग्रेस परेशान नहीं थी लेकिन कर्नाटक में हार पास देखकर कांग्रेस परेशान है क्योंकि कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने यहां एक टैंक बनाया है जिससे जनता का पैसा लूटा जाता है।’ उन्होंने कहा, ‘यह पैसा सीधा पाइप से दिल्ली पहुंचता है। अगर यहां सरकार हार गई तो कांग्रेस के लिए पैसे कहां से आएंगे, यह कांग्रेस की चिंता है। यही करने की जरूरत है।’
कांग्रेस को है वसूली माफिया की चिंता
अपने भाषण में मोदी ने कहा, ‘करप्शन का टैंक भरने के लिए कांग्रेस ने राज्य में वसूली माफियाओं का एक नेटवर्क तैयार किया है और अगर सरकार चली गई तो उनका क्या होगा, इसकी भी कांग्रेस को चिंता है।’ उन्होंने कहा, ‘2014 से पहले कोयला, हेलिकॉप्टर, कॉमनवेल्थ घोटाला हर जगह घोटाले नजर आते थे, और उनके पैसे से ही कांग्रेस के काले कारनामे चल रहे थे।’
परिणाम के बाद रह जाएगी पीपीपी कांग्रेस
चुनाव परिणामों को लेकर पीएम ने कहा, ‘यह कांग्रेस 15 मई के बाद पीपीपी कांग्रेस बनकर रह जाएगी यानी कि पंजाब-पुडुचेरी परिवार कांग्रेस।’ उन्होंने कहा, ‘सजग रहिए, जागते रहिए। अगर गलती से भी कांग्रेस का कोई भी आया तो उसका काम कर्नाटक को लूटने का होगा।’
इससे पहले राहुल गांधी ने एक वीडियो ट्वीट किया था जिसमें कुछ मुद्दों पर पीएम मोदी को पांच मिनट बोलने की चुनौती दी है। राहुल ने ट्वीट में लिखा है कि प्रिय मोदीजी आप बोलते बहुत हैं लेकिन आपके काम आपके शब्दों से मेल नहीं खाते।
राहुल ने जो वीडियो पोस्ट किया है उसमें कर्नाटक में बीजेपी की तरफ से कथित तौर पर दागी नेताओं को टिकट देने को लेकर पीएम पर हमला बोला गया है। राहुल ने पीएम से पूछा है कि, ‘क्या आप रेड्डी ब्रदर्स गैंग को 8 टिकट देने पर 5 मिनट बोलेंगे?’ इसी तरह येदियुरप्पाव को सीएम कैंडिडेट बनाने को लेकर भी सवाल किया गया है। वीडियो में आरोप लगाया है कि 23 केस होने के बावजूद क्या येदियुरप्पा को सीएम कैंडिडेट बनाने पर पीएम बोलेंगे?
इसी तरह कर्नाटक बीजेपी के कथित टॉप 11 नेताओं को भी जिक्र किया गया जिन पर करप्शन केस होने का आरोप लगाया गया है।
दरअसल, दोनों नेताओं के बीच बोलने की चुनौती देने के इस राजनीतिक खेल की शुरुआत राहुल गांधी की एक चुनौती से हुई। राहुल ने पिछले दिनों कई मंचों से दावा किया कि उन्हें नीरव मोदी, राफेल डील जैसे मामलों में 15 मिनट बोलने दिया जाए तो पीएम मोदी संसद में खड़े नहीं हो पाएंगे।
पीएम ने तब राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा था कि पहले तो यही बड़ी बात होगी कि वह 15 मिनट बोलेंगे। पीएम ने राहुल गांधी को चुनौती दी थी कि वह बिना देखे 15 मिनट सिद्धारमैया सरकार की सफलताओं पर बोलकर दिखाएं।
इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि इस दौरान राहुल केवल 5 बार विश्वेश्वरैया भी बोलकर दिखाएं।
कर्नाटक चुनाव के दौरान एक जगह अपने संबोधन में राहुल गांधी देश की महान हस्ती मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या का नाम लेते हुए उच्चारण में गड़बड़ी कर बैठे थे।
पीएम मोदी ने शनिवार को कांग्रेस के साथ-साथ जेडीएस पर भी तीखा हमला बोला है। पीएम ने तुमकुरु की रैली में कांग्रेस और जेडीएस के बीच साझेदारी का आरोप लगाया और कहा कि दोनों नूरा-कुश्ती में लगे हुए हैं। इस दौरान मोदी ने पूर्व पीएम देवगौड़ा पर भी निशाना साधते हुए कहा कि 2014 में उन्होंने कहा था कि अगर मोदी जीता तो मैं आत्महत्या कर लूंगा। पीएम ने इस नए चुनावी पैंतरे से उस चुनावी सुगबुगाहट को खत्म करने की कोशिश की है जिसमें बीजेपी-जेडीएस के बीच कथित गुप्त समझौते का दावा किया जा रहा है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »