UPPSC में भ्रष्टाचार, सीएम ने द‍िए जल्द ही कठोरतम कार्रवाई के संकेत

लखनऊ। पीसीएस जे परीक्षा में भ्रष्टाचार की शिकायत मिलने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ UPPSC (उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग) के अध्यक्ष से बात करेंगे। मुख्यमंत्री से लखनऊ मिलने पहुंचे पीसीएस जे अभ्यर्थियों को परीक्षा की जांच कराए जाने का आश्वासन भी मिला है। साथ ही सीएम ने UPPSC में भ्रष्टाचार के खिलाफ जल्द ही बड़े स्तर पर कार्रवाई के संकेत दिए हैं।

न्यायिक सेवा प्रतियोगियों के प्रतिनिधिमंडल ने लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके आवास में मुलाकात की। मुख्यमंत्री को बताया गया कि एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती पेपर लीक मामले में गिरफ्तार की गईं तत्कालीन परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार के कार्यकाल में पीसीएस जे-2018 की प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा भी आयोजित की गई थी। परीक्षा जल्दबाजी में कराई गई। इस परीक्षा का पेपर भी उसी प्रेस में छपा था, जिसमें एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा का पेपर छपवाया गया था।

अभ्यर्थियों ने पीसीएस जे मुख्य परीक्षा के परिणाम में हुई गड़बड़ी से भी सीएम को अवगत कराया। प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे आशीश पटेल के अनुसार सीएम ने कहा कि आयोग में भ्रष्टाचार की जांच चल रही है। अधिकारियों एवं कर्मचारियेां की संपत्ति की जांच कराई जा रही है। भ्रष्ट अफसर जेल भेजे जाएंगे।

यूपीपीसीएस 2018 मेंस परीक्षा हुई स्थगित

मालूम हो कि पेपर लीक प्रकरण से विवादों में घिरे यूपी पब्लिक सर्विस कमीशन (UPPSC) ने बड़ा कदम उठाते हुए यूपी पीसीएस-2018 की मेंस की परीक्षाओं को स्थगित कर दिया था। ये परीक्षाएं 17 से 21 जून तक होनी थीं। परीक्षाएं क्यों टाली गईं, फिलहाल कमीशन के पास इसका कोई जवाब नहीं है। वैसे ज़्यादातर अभ्यर्थियों ने पीसीएस की मुख्य परीक्षाएं टाले जाने के फैसले का स्वागत किया। कमीशन ने अभी कोई नई तारीख भी घोषित नहीं की है।

आशंका जताई जा रही थी कि एलटी ग्रेड भर्ती परीक्षा के पेपर लीक प्रकरण में परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार के खिलाफ केस दर्ज होने और प्रिंटिंग प्रेस संचालक की गिरफ्तारी के बाद मचे कोहराम से बचने के लिए कमीशन ने बैकफुट पर आते हुए यह कदम उठाया है। इस मामले में तमाम अभ्यर्थियों ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में भी अर्जी दाखिल की थी।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »