कोको पाउडर का सही इस्‍तेमाल वजन घटाने में मददगार

बढ़ता वजन हर किसी को टेंशन देने वाला होता है। इसे कम करना भी काफी मुश्किल काम होता है। वजन घटाने के लिए कई तरकीबें आपने इंटरनेट पर पढ़ीं और देखी होंगी। सबसे अच्छा तरीका डायट कंट्रोल और फिजिकली एक्टिव रहना है इसके अलावा कुछ चीजें ऐसी भी हैं जिन्हें डायट में शामिल करके आप बढ़ते वजन को कंट्रोल कर सकते हैं।
कोको पाउडर से कई सारी स्वादिष्ट डिशेज बनाई जाती हैं और इन डिशेज को ज्यादा खाने से वजन बढ़ता है। वहीं कोको पाउडर अगर सही तरीके से लिया जाए तो यह आपका वजन कम कर सकता है। कोको पाउडर और चॉकलेट को लोग अक्सर एक ही चीज समझ लेते हैं लेकिन दोनों अलग प्रोडक्ट्स हैं।
कोको बीन्स की पीसकर कोको पाउडर बनाया जाता है। यह सिर्फ पाउडर होता है इसमें फैट और चीनी वगैरह नहीं होते। वहीं चॉकलेट में शुगर, कोको बटर जैसी चीजें भी होती हैं, जो फैट बढ़ाती हैं। चॉकलेट में कोको पाउडर की मात्रा जितनी ज्यादा होगी वह उतनी ज्यादा हेल्दी मानी जाती है।
आपने देखा होगा कि फिटनेस वर्कआउट के पहले ट्रेनर्स चॉकलेट ड्रिंक्स भी देते हैं ऐसा इसलिए क्योंकि कोको आपका मेटाबॉलिजम तेज करता है। इससे फैट तेजी से मेटाबोलाइज होता है।
कोको का दूसरा फायदा यह भी होता है कि यह आपका ब्लड प्रेशर कम करता है। डार्क चॉकलेट हो या कोको पाउडर दोनों ही ब्लड प्रेशर कम करने में मदद करते हैं। माना जाता है कि कोको में जो फ्लेवेनॉइड्स होते हैं वे ब्लड में नाइट्रिक ऑक्साइड के लेवल को बढ़ाते हैं।
ब्लड प्रेशर कम करने के साथ कोको में कुछ ऐसे गुण होते हैं जिनसे हार्ट अटैक और स्ट्रोक का रिस्क कम होता है।
कई रिसर्च में यह भी सामने आया है कि कोको में कुछ ऐसे गुण होते हैं जो मूड अच्छा करके डिप्रेशन के लक्षणों को दूर करते हैं।
कुल मिलाकर देखा जाए तो कोको और कोको रिच प्रोडक्ट्स वजन कम करने के साथ हेल्थ के लिए कई तरह से अच्छे होते हैं बशर्ते इन्हें सही अमाउंट में कंज्यूम किया जाए।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »