कोरोना का कहर, एक मिनट में निवेशकों के 6 लाख करोड़ रुपये स्वाहा

नई दिल्‍ली। कोरोना को लेकर बढ़ रही घबराहट से दुनिया के साथ भारत के शेयर बाजार में हाहाकार का सिलसिला जारी है। बुधवार को सेंसेक्स 2500 अंकों तक डूब गया। कमोडिटी बाजारों पर भी काफी असर देखने को मिल रहा है। वैश्विक बाजारों से संकेत लेते हुए घरेलू शेयर बाजार बड़ी गिरावट के साथ खुले। सेंसेक्स 1200 अंकों से ज्यादा नीचे खुला और देखते ही देखते गिरावट 2500 अंकों से ज्यादा तक पहुंच गई। गिरावट इतनी तेज थी कि महज एक मिनट में निवेशकों के 6 लाख करोड़ रुपये स्वाहा हो गए।
बाजार के जानकार निवेशकों की घबराहट की बड़ी वजह कोरोना वायरस को बता रहे हैं। उनके मुताबिक कोरोना वायरस का प्रकोप दुनियाभर में गहराने और इससे निपटने के लिए उठाए जा रहे एहतियाती कदमों से बाजार में घबराहट का माहौल बना हुआ है। कोरोना का कहर और इंटरनेशनल मार्केट में कच्चे तेल में गिरावट के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था पर मंदी की आशंका बनी हुई है जिसके चलते बिकवाली का दबाव बना हुआ है। इस साथ ही यएस बैंक के ताजा संकट ने भी बेचैनी बढ़ाई है।
शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 1,821 अंक नी्चे देखा गया, यानी 5.21 पर्सेंट की गिरावट। वहीं, निफ्टी अपने हालिया हाई से 20 पर्सेंट नीचे गिरकर बीयर मार्केट में प्रवेश कर चुका है। इंडेक्स ने शुरुआती कारोबार में ही 10 हजार का लेवल तोड़ दिया और 541.85 अंकों की गिरावट के साथ 9,916.55 पर देखा गया। बाजार में खौफ इतना हावी है कि कोई भी सेक्टोरल इंडेक्स हरे निशान पर नहीं दिखाई दिया।
शुरुआती कारोबार में हर जगह निराशा
सेंसेक्स का हर शेयर लाल निशान पर दिखा। सबसे ज्यादा गिरावट टाटा स्टील, ओएनजीसी, टाइटन, एसबबीआई के शेयरों में दिखी। इन सभी में 7 पर्सेंट से ज्यादा की गिरावट थी। निफ्टी पर यस बैंक, टाटा मोटर्स, टाटा स्टील और वेदांता शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट है।
कोरोना वैश्विक महामारी
WHO ने कोरोना वायरस को आधिकारिक तौर पर वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है, देशों ने अपने इंटरनैशनल बॉर्डर बंद करने शुरू कर दिए हैं और अमेरिकी बाजार 6 पर्सेंट लुढ़क गया है। बुधवार को अमेरिकी शेयर बाजार में जबर्दस्त गिरावट दर्ज की गई है। बेंचमार्क डाउ जोन्स 1400 अंकों से ज्यादा फिसला, जिससे संकेत लेते हुए एशियाई बाजारों में भी गिरावट देखने को मिली। सिंगापुर एक्सचेंज पर निफ्टी फ्यूचर्स करीब 4 पर्सेट से ज्यादा की गिरावट के साथ कारोबार करते दिखाई दे रहे थे। इससे संकेत मिल रहे हैं कि दलाल स्ट्रीट के कारोबार की शुरुआत बड़ी गिरावट के साथ हो सकती है।
कच्चा तेल और गिरा, अन्य बाजारों का हाल
तोक्यो बेंचमार्क निक्केई 2 पर्सेंट से ज्यादा नीचे, साउथ कोरिया कका कॉस्पी करीब सवा पर्सेंट और ऑस्ट्रेलिया का एएसएक्स शुरुआती ट्रेड में 2.6 पर्सेंट नीचे देखे गए। वहीं अमेरिका के यूरोप यात्रा पर बैन के बाद कच्चे तेल के दाम में और गिरावट दर्ज की गई। ब्रेंट क्रूड $34.76 प्रति बैरल के स्तर पर पहुंच गया, हालांकि इसमें उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *