देश के 211 जिलों में कोरोना वायरस के मामले पाए गए, कुल संख्‍या और बढ़ी

नई दिल्‍ली। सरकारी आंकड़ों के अनुसार अब तक देश के कुल 720 जिलों में से 211 जिलों में कोरोना वायरस के मामले पाए जा चुके हैं।
कुछ बड़े राज्यों में 60 फीसदी से भी अधिक जिलों में इंफेक्शन फैल चुका है जबकि बहुत से राज्यों से 30 फीसदी से अधिक में संक्रमण फैला है।
ये आंकड़े बताते हैं कि कोविड-19 से लड़ना अधिकारियों के लिए काफी चुनौतीपूर्ण होगा क्योंकि अब तक वायरस देश के 30 फीसदी से भी अधिक जिलों में फैल चुका है।
यह नंबर भी और बढ़ेगा क्योंकि सरकारी आंकड़े सिर्फ 1965 पॉजिटिव मामलों के हैं, जबकि कुल संख्या 3000 के करीब जा पहुंची है। विशेषज्ञों का मानना है कि तमाम राज्यों में कोरोना वायरस का तेजी से फैलना इससे लड़ने के प्रयासों में रुकावट पैदा करेगा क्योंकि इस वजह से टेस्टिंग किट और मेडिकल सुविधाओं की कमी होती जा रही है।
‘लॉकडाउन से मदद मिली’
कर्नाटक सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक ‘अभी हमारे सामने चुनौती ये है कि कैसे जिलों में फैले कोरोना वायरस को रोका जाए। लॉकडाउन से एक हद तक मदद भी मिली है। हालांकि, शुरुआती दौर में लोगों के इधर-उधर जाने से दिक्कतें हुईं।’
16000 रेस्पिरेटरी पंप, 5000 वेटिंलेटर की जरूरत
जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस रिसर्च के प्रोफेसर संतोष अंशुमली के जिलेवार आंकड़ों और आईआईएससी के आलोक कुमार के अनुसार भारत को अप्रैल के अंत तक 16000 से भी अधिक रेस्पिरेटरी पंप चाहिए और करीब 5000 वेंटिलेटर की भी जरूरत है।
11 ऐसे राज्य, जिनके 20 फीसदी जिले संक्रमण की चपेट में
स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि 6000 से अधिक वेंटिलेटर और 2000 आईसीयू बेड देश भर में तैयार हो जाएंगे। साथ ही 100 से भी अधिक डेडिकेटेड कोविड-19 फैसिलिटी में से अधिकतर जिला मुख्यालयों या फिर बड़े शहरों में हैं। 17 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में 11 ऐसे हैं, जिनमें 20 फीसदी जिले कोरोना के संक्रमण की चपेट में हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *