COPD स्ट्रोक के खतरे को कम कर सकता है विटामिन डी युक्त अनुपूरक आहार

विटामिन डी युक्त अनुपूरक आहार फेफड़े की बीमारी क्रॉनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मनरी डिजीज COPD से पीड़ित मरीजों में जानलेवा आघात यानी स्ट्रोक के खतरे को कम कर सकता है।
एक नये अध्ययन में ऐसा दावा किया गया है। ब्रिटेन की क्वीन मेरी यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन Queen Mary University of London  के इस अनुसंधान ने विटमिन डी के स्वास्थ्य लाभों की सूची में एक और फायदा जुड़ गया है।
हड्डियों की सेहत के लिए बेहद जरूरी है विटमिन डी
विटमिन डी का मूल स्रोत सूरज की रोशनी है। हालांकि विटमिन डी की गोलियां, डेयरी उत्पाद, मछली और कुछ फोर्टिफाइड अनाजों से भी इस विटमिन की कमी पूरी की जा सकती है। विटमिन डी को यूं तो हड्डियों की सेहत के लिए खास तौर पर जाना जाता है लेकिन पूर्व के अध्ययनों में इसे जुकाम, फ्लू और दमा का दौरा रोकने में भी सक्षम बताया गया। साथ ही इसे कुपोषित बच्चों में वजन बढ़ाने एवं मस्तिष्क विकास के लिए भी सहायक बताया गया।
COPD मरीजों में लंग्स स्ट्रोक की आशंका 45 प्रतिशत
अनुसंधान में पाया गया कि विटमिन डी अनुपूरक आहारों के इस्तेमाल से सीओपीडी मरीजों में फेफड़े का दौरा पड़ने की आशंका को 45 प्रतिशत तक घटाया जा सकता है। COPD से पीड़ित मरीजों में विटमिन डी की कमी होती है। हालांकि जिन मरीजों में विटमिन डी का स्तर अधिक था उनमें कोई खास फायदा नहीं देखा गया। फेफड़े की बीमारियों से होने वाली लगभग सभी मौत फेफड़े का दौरा पड़ने से ही होती है। यह अध्ययन थोरेक्स पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *