क‍िसानों के ‘द‍िल्ली चलो’ को कांग्रेस का समर्थन, धारा 144 लागू

नई द‍िल्ली। केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा व राजस्थान के किसान 26 से 28 नवंबर तक के ‘दिल्ली कूच’ पर निकले हैं।

किसान विरोध के चलते दिल्ली के सीमावर्ती इलाकों में निगरानी बढ़ी

दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा ‘दिल्ली चलो’ विरोध मार्च के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी के सीमावर्ती क्षेत्रों में अपनी निगरानी सख्त कर दी। दिल्ली पुलिस ने सीमा पर किसानों द्वारा संचालित ट्रैक्टरों की आवाजाही रोकने के लिए रेत से भरे ट्रकों को तैनात किया है। यह पहला मौका है जब शहर की पुलिस ने सीमा पर रेत से भरे ट्रकों को तैनात किया है। पुलिस ने बताया कि सीमा को सील नहीं किया गया है लेकिन वे राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करने वाले सभी वाहनों की जांच कर रहे हैं। इससे पहले, दिल्ली पुलिस ने 26 और 27 नवंबर को केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी में विरोध प्रदर्शन करने के विभिन्न किसान संगठनों के अनुरोधों को अस्वीकार कर दिया था।

गुरुवार को इनका दिल्ली में प्रवेश रोकने के लिए दिल्ली-हरियाणा सीमा पर पुलिस व सुरक्षा बलों की तैनाती व बेरिकेड आदि लगाकर सख्त इंतजाम किए गए हैं। अंबाला हाईवे पर रोके जाने के दौरान बुधवार को किसानों की पुलिस से झड़प हुई। 100 किसान हिरासत में लिए गए। क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई है। वरिष्ठ अधिकारी हालात पर नजर रखे हुए हैं। ड्रोन से भी नजर रखी जा रही है।

दिल्ली कूच में एक लाख किसानों के जुटने का दावा किया जा रहा है। किसानों ने चेतावनी दी है कि यह उन्हें रोका गया तो वे दिल्ली जाने वाले सारे रास्ते जाम कर देंगे। इधर, किसान को दिल्ली आने से रोकने के लिए गुरुवार को दिल्ली मेट्रो ने अपनी सेवाओं में बदलाव किया है। दिल्ली से नोएडा, गाजियाबाद समेत एनसीआर के सभी शहरों को जोड़ने वाली लाइनों पर बार्डर के दो स्टेशनों के बीच मेट्रो सेवा दोपहर दो बजे तक बंद रहेगी।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर किया किसानों का समर्थन
हरियाणा सरकार द्वारा रोके जा रहे किसानों के समर्थन में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी भी सामने आए हैं। उन्होंने ट्वीट कर किसानों को एक कविता के माध्यम से अपना समर्थन दिया है। राहुल गांधी ने लिखा, ‘नहीं हुआ है अभी सवेरा, पूरब की लाली पहचान चिड़ियों के जगने से पहले, खाट छोड़ उठ गया किसान काले कानूनों के बादल गरज रहे गड़-गड़, अन्याय की बिजली चमकती चम-चम मूसलाधार बरसता पानी, जरा ना रुकता लेता दम! मोदी सरकार की क्रूरता के खिलाफ देश का किसान डटकर खड़ा है।’

सादोपुर बॉर्डर पर किसानों की गईं पानी की बौछारें
हरियाणा में प्रवेश कर चुके किसान सादोपुर बॉर्डर तक पहुंच चुके हैं, जहां उन्हें रोकने के लिए बैरिकेडिंग की गई है। जब किसानों ने बैरिकेडिंग तोड़ने का प्रयास किया तो सुरक्षाबलों ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए वाटर कैनन का इस्तेमाल किया।

गाजियाबादः भाकियू अंबावत से जुड़े किसानों ने प्रशासन को सौंपा ज्ञापन
किसान बिल समेत अन्य मांगों को लेकर दिल्ली की तरफ जा रहे भारतीय किसान यूनियन अम्बावत से जुड़े किसानों को पुलिस प्रशासन ने गाजियाबाद के मोहन नगर चौराहे पर रोक लिया। संगठन के पदाधिकारियों से एएसपी केशव कुमार बातचीत कर समाधान निकालने में जुटे रहे। करीब डेढ़ घंटे की वार्ता के बाद किसानों ने अपनी मांगों को लेकर एक ज्ञापन एसीएम सेकंड विनय सिंह और एएसपी केशव कुमार को सौंप दिया।

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *