दिल्ली हिंसा पर संसद में कांग्रेस का हंगामा, अमित शाह के इस्‍तीफे की मांग

नई दिल्‍ली। दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 47 पहुंच चुकी है। इस पर पिछले कई दिनों से राजनीति हो रही है। आरोप-प्रत्यारोप की ये राजनीति अब संसद तक पहुंच चुकी है। संसद में कांग्रेस की ओर से लगातार मांग की गई कि अमित शाह इस्तीफा दें। बता दें कि अमित शाह के इस्तीफा देने की बात सबसे पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के कही थी, जिसके बाद भाजपा के नेताओं ने कांग्रेस पर पलटवार किया। दिल्ली हिंसा के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस से शुरू हुआ ये सिलसिला अब संसद और भी तीखे हमलों वाला हो गया है। कांग्रेस की ओर से संसद में इस कदर हंगामा किया गया कि आखिरकार लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने कार्यवाही को ही स्थगित कर दिया।
संसद में सिर्फ अमित शाह के इस्तीफे की मांग को लेकर ही हंगामा नहीं हो रहा है, बल्कि पीएम मोदी पर भी हमला बोला जा रहा है। नारे लग रहे हैं- प्रधानमंत्री जवाब दो। कुछ सांसद तो विरोध के बैनर लेकर वेल तक भी पहुंच गए। हालांकि, ये कहा जा रहा है कि आज अमित शाह संसद में नहीं बोलेंगे।
कांग्रेस और भाजपा सदस्यों में धक्का-मुक्की
लोकसभा में विपक्ष के हंगामे के दौरान कांग्रेस एवं भाजपा सदस्यों के बीच धक्का-मुक्की भी हुई। कांग्रेस सदस्यों के हाथों में पोस्टर थे, जिन पर ‘गृह मंत्री इस्तीफा दो’, ‘सेव इंडिया’, ‘अमित शाह इस्तीफा दो’ के नारे लिखे थे । तृणमूल कांग्रेस के सदस्य अपने स्थान से ही नारेबाजी कर रहे थे । भाजपा के संजय जायसवाल जब चर्चा में हिस्सा ले रहे थे तभी कांग्रेस के गौरव गोगोई, रवनीत सिंह बिट्टू ‘गृह मंत्री इस्तीफा दो ’ लिखा बैनर लेकर सत्तापक्ष की सीटों के पास आ गए।
गुलाम नबी आजाद चाहते हैं दिल्ली हिंसा पर बहस
कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि वह चाहते हैं कि दिल्ली हिंसा पर संसद में बहस की जाए। उन्होंने कहा कि इस समय इससे बड़ा कोई मुद्दा नहीं है। वह बोले कि केंद्र सरकार दिल्ली में शांति नहीं लाना चाहती थी। शांति व्यवस्था दोबारा कायम करने के लिए न तो सरकार की तरफ से कोई बयान आया, ना ही केंद्र सरकार की पुलिस ने कोई एक्शन लिया।
ट्रेजरी बेंच ने बोला हमला
भाजपा की अगुवाई वाली ट्रेजरी बेंच ने कांग्रेस पर जोरदार हमला किया। केंद्रीय संसदीय मामलों के मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा, ‘जिन लोगों ने 1984 में 3,000 लोगों के मारे जाने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की, आज वे यहां हंगामा कर रहे हैं। मैं इसकी कड़ी निंदा करता हूं।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *