कर्नाटक में अब कांग्रेस विधायक Roshan Beg को डिप्टी सीएम बनाने की मांग

Roshan Beg को मुस्लिम संगठन ने की डिप्टी सीएम बनाने की मांग

नई दिल्‍ली। कर्नाटक में अब कांग्रेस विधायक Roshan Beg को मुस्लिम संगठन ने की डिप्टी सीएम बनाने की मांग कर दी है।  एचडी कुमारस्वामी की सरकार की शुरुआत होने से एक दिन पहले ही मंत्री पद की मांग जोर पकड़ने लगी है। मुस्लिम संगठन की तरफ से मंगलवार को अल्पसंख्यक नेता Roshan Beg को राज्य के उप-मुख्यमंत्री बनाने की मांग की गई है।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, अल्पसंख्यक समूह के प्रतिनिधियों ने बेंगलुरू में कहा कि सात बार से कांग्रेस विधायक Roshan Beg या किसी अन्य मुस्लिम समुदाय के नेता को कर्नाटक बनने जा रही नई सरकार में उप-मुख्यमंत्री बनाया जाना चाहिए।

उधर, मुस्लिम संगठनों की तरफ से डिप्टी सीएम बनाने की मांग पर आर. रोशन बेग ने कहा- इसमें गलत क्या है? क्यों नहीं? अगर दूसरे समुदायों के लोग मांग कर सकते हैं तो हमारी समुदाय के लोग ऐसी मांग क्यों नहीं कर सकते हैं? लेकिन, अंत में इसका फैसला आलाकमान को लेना होगा।

अटकलबाजियों के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि उनकी पार्टी की यह पहली प्राथमिकता थी कर्नाटक विधानसभा के लिए स्पीकर का चुनाव हो और उसके बाद विश्वासमत हो। जनता दल नेता कुमारस्वामी के शपथ लेने के 24 घंटे के अंदर उम्मीद है कि बहुमत साबित कर दिया जाएगा।

खड़गे ने कहा- इन दो चीजों के होने के बाद ही अन्य चीजों पर चर्चा की जाएगी। गठबंधन सरकार में कुमारस्वामी की कोशिश मंत्री पद के आवंटन में संतुलन बनाने की है। इसके तहत वे कुछ अहम पदों को अपने सहयोगी कांग्रेस को दे सकते हैं।

कांग्रेस और जेडीएस विधायकों की बेंगलुरू में मंगलवार को होने जा रही बैठक के बाद कर्नाटक में सरकार बनाने को लेकर औपचारिकताओं का ऐलान कर दिया जाएगा।

बहुमत साबित हो जाने तक दोनों ही पार्टियों ने यह फैसला किया है कि वह अपने विधायकों को होटल में ही रखेंगे ताकि आंतरिक मदभेदों के चलते वे छोड़कर ना जा पाएं। दोनों ही दलों की तरफ से संयुक्त समन्वय समिति (ज्वाइंट कॉर्डिनेशन कमेटी) गठित की जाएगी और एक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम (साझा कार्यक्रम) बनाया जाएगा ताकि कर्नाटक की गठबंधन सरकार अगले पांच वर्षों तक सुचारु रूप से चल सके। इस समिति में पांच से छह सदस्य होंगे।

गौरतलब है कि कर्नाटक चुनाव में अस्पष्ट जनादेश के बाद राज्यपाल वजुभाई वाला ने पहले बीजेपी को सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते येदियुरप्पा को सरकार बनाने का पहले न्यौता दिया।

लेकिन, येदियुरप्पा ने बहुमत के लिए जरुरी आंकड़ा नहीं होने के चलते सुप्रीम कोर्ट की तरफ से निर्धारित समय सीमा पर फ्लोर टेस्ट कराने से पहले ही मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। उसके बाद कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को सरकार बनाने का न्यौता दिया गया।

बहरहाल  7 बार से कांग्रेस विधायक हैं Roshan Beg ने कहा कि अगर दूसरे समुदायों के लोग मांग कर सकते हैं तो हमारी समुदाय के लोग ऐसी मांग क्यों नहीं कर सकते हैं?

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »