पीएम और उमा भारती की जाति पूछने पर कांग्रेसी नेता ने खेद जताया

नई दिल्‍ली। राजस्थान की एक चुनावी सभा में पीएम नरेंद्र मोदी पर विवादित बयान देकर चौतरफा घिरे पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता सीपी जोशी ने आखिरकार अपने बयान पर खेद प्रकट किया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी जोशी के इस बयान पर कड़ी नाराजगी जताई थी और उनसे खेद प्रकट करने को कहा था। बता दें कि जोशी ने अपने विधानसभा क्षेत्र नाथद्वारा में एक सभा के दौरान पीएम मोदी और उमा भारती की जाति और धर्म पर सवाल उठाते हुए दोनों पर निशाना साधा था। जोशी के इस बयान पर बीजेपी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उस पर बंटवारे की राजनीति को बढ़ावा देने का आरोप लगा डाला।
राहुल गांधी की फटकार
राहुल गांधी ने जोशी के बयान पर नाराजगी जताते हुए कहा था, ‘सीपी जोशी का बयान कांग्रेस पार्टी के मूल्यों के खिलाफ है। पार्टी नेताओं को ऐसे बयान से परहेज करना चाहिए जिससे किसी वर्ग को ठेस पहुंचती हो। मुझे उम्मीद है कि जोशी जी पार्टी के सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए अपनी गलती का अहसास कर रहे होंगे। उन्हें अपने बयान पर खेद प्रकट करना चाहिए।’
ट्वीट कर जोशी ने जताया खेद
राहुल के इस बयान के कुछ देर बाद ही जोशी ने ट्वीट कर अपने बयान के लिए खेद जताया। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘कांग्रेस के सिद्धांतों एवं कार्यकर्ताओं की भावनाओं का सम्मान करते हुए मेरे कथन से समाज के किसी वर्ग को ठेस पहुंची हो तो मैं उसके लिए खेद प्रकट करता हूं।’
क्या कहा था सीपी जोशी ने
सीपी जोशी ने गुरुवार को एक सभा के दौरान कहा था, ‘उमा भारती जी की जाति मालूम है किसी को? ऋतंभरा की जाति मालूम है किसी को क्या? इस देश में धर्म के बारे में कोई जानता है तो पंडित जानते हैं। अजीब देश हो गया। इस देश में उमा भारती लोधी समाज की हैं, वह हिंदू धर्म की बात कर रही हैं। साध्वीजी किस धर्म की हैं? वह हिंदू धर्म की बात कर रही हैं। नरेंद्र मोदीजी किसी धर्म के हैं, हिन्दू धर्म की बात कर रहे हैं। 50 साल में इनकी अक्ल बाहर निकल गई।’
बीजेपी ने जोशी और कांग्रेस को घेरा
जोशी के इस बयान के बाद बीजेपी ने जोशी और कांग्रेस पार्टी को आड़े हाथों लिया। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस पर दिखावे की राजनीति करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस बार-बार दिखावा कर रही है। तुष्टीकरण की राजनीति कांग्रेस करती रही है और अब जाति और धर्म की राजनीति को आगे बढ़ा रही है। बंटवारे की राजनीति को कांग्रेस बढ़ावा दे रही है।’
यूपीए सरकार में कई अहम पदों पर रहे हैं जोशी
बता दें कि सीपी जोशी यूपीए सरकार में ग्रामीण विकास और परिवहन समेत अहम मंत्रालय संभाल चुके हैं। उन्हें राहुल गांधी का करीबी माना जाता है। 2008 के विधानसभा चुनाव में जोशी नाथद्वारा सीट से केवल एक वोट से हार गए थे। इस हार को उनसे सीएम की कुर्सी छिनने के तौर पर देखा गया था। राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों पर 7 दिसंबर को मतदान होगा, वहीं वोटों की गिनती 11 दिसंबर को की जाएगी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »