कांग्रेस ने एक महीने के लिए जबरन ‘मौनव्रत’ पर भेजे अपने सभी प्रवक्‍ता

नई दिल्‍ली। कांग्रेस ने आज अपने सभी प्रवक्ताओं को एक महीने के लिए टीवी डिबेट्स से दूर रहने का फरमान जारी किया है। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता और मीडिया इंचार्ज रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर बताया कि सभी प्रवक्ताओं को अगले एक महीने तक टीवी डिबेट में नहीं भेजने का फैसला किया गया है।
लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त झेलने और उसके बाद हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफे पर सस्पेंस के बीच सुरजेवाला ने ट्वीट किया, ‘कांग्रेस ने एक महीने तक टीवी पर होने वाली डिबेट में प्रवक्ताओं को नहीं भेजने का फैसला किया है। सभी मीडिया चैनल्‍स/एडिटर्स से अनुरोध है कि वे अपने शो में कांग्रेस के प्रतिनिधियों को ना रखें।’
माना जा रहा है कि कांग्रेस को लगता है कि अभी-अभी चुनाव हुए हैं और देश का मूड मोदी के साथ है लिहाजा अभी से सरकार का विरोध करना ठीक नहीं होगा। इसका जनता में अच्छा संदेश नहीं जाएगा।
इसके अलावा राहुल गांधी ने जिस तरह हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश की है और उन्हें अभी भी मनाने की कोशिश की जा रही है, उसे देखते हुए भी प्रवक्ताओं के लिए इससे जुड़े सवालों का जवाब देना काफी मुश्किल होता। कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने राहुल की पेशकश को नामंजूर कर दिया था लेकिन वह अभी भी गांधी परिवार से बाहर के किसी शख्स को अध्यक्ष बनाए जाने को लेकर अड़े हुए हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता उन्हें मनाने में लगे हुए हैं।
इसके अतिरिक्त, कई राज्यों की इकाइयों के प्रमुखों ने भी हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश की है। कुल मिलाकर कांग्रेस के भीतर काफी उथल-पुथल जैसा माहौल है। जाहिर तौर पर टीवी चैनल्‍स पर डिबेट में कांग्रेस के प्रतिनिधियों को इनसे जुड़े सवालों से दो-चार होना पड़ता, जिसका सीधा जवाब देने में वे असमर्थ होते। शायद इन्हीं वजहों को देखते हुए पार्टी ने प्रवक्ताओं को टीवी डिबेट से दूर रहने का फरमान जारी किया है।
इससे पहले समाजवादी पार्टी ने भी नतीजों के बाद टीवी पर पार्टी का पक्ष रखने वाले सभी प्रतिनिधियों को पद से हटा दिया था और टीवी चैनल्‍स से एसपी की तरफ से किसी को भी न बुलाने का अनुरोध किया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *