हुड्डा के घर सीबीआई की छापेमारी से बौखलाई कांग्रेस ने अफसरों को दी धमकी

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा शुक्रवार को बीजेपी पर निशाना साधते हुए सरकारी अफसरों पर ही बरस पड़े। बातों ही बातों में उन्होंने चेतावनी दे डाली कि ब्यूरोक्रेट्स सुन लें, यह सरकार स्थाई नहीं है और आम चुनाव होने में अब कुछ ही हफ्ते बचे हैं इसलिए अपने दायरे में रहकर काम करें। दरअसल, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस हुड्डा के घर पर सीबीआई की छापेमारी के कुछ घंटे बाद ही शर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार परेशान है और प्रधानमंत्री की हार तय है इसलिए ऐसी कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने कहा कि चुनाव नजदीक आते ही मोदी सरकार ने बदले की भावना से यह कार्यवाही की है।
बीजेपी ने कहा, यही कांग्रेस का कल्चर है
शर्मा के बयान पर बीजेपी ने पलटवार करते हुए कहा कि यही कांग्रेस का कल्चर है।
पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, ‘संवैधानिक संस्थाओं और एजेंसियों को धमकाना ही कांग्रेस का कल्चर है, जो देश के लिए काम करती हैं।’ उन्होंने कहा कि यही हमने हाल में सुप्रीम कोर्ट को लेकर देखा था, जब सच सामने आ गया तो उन्होंने चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग चलाने की भी कोशिश की। कुछ दिन पहले ही लंदन में उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और देश के चुनाव आयोग पर दबाव बनाया और धमकाने की कोशिश की। पात्रा ने कहा कि वे (कांग्रेस) चाहते हैं कि भ्रष्टाचार उनका जन्मसिद्ध अधिकार है और कोई उसकी जांच न करें।
शर्मा ने क्या कहा था?
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान चेतावनी भरे लहजे में शर्मा ने कहा, ‘सरकारी एजेंसियों को कानून के दायरे में रहकर काम करना चाहिए। चुनाव नजदीक हैं और यह सरकार बदलेगी।’ उन्होंने यह भी कहा कि नई सरकार में हर उस संस्था और अधिकारी की जवाबदेही सुनिश्चित की जाएगी, जो नरेंद्र मोदी और अमित शाह के इशारे पर विरोधियों को निशाना बना रहे हैं।
कांग्रेस नेता ने कहा, ‘कोई संस्था ऐसी नहीं है जो मोदी और अमित शाह के हस्तक्षेप से बची हो। हम सरकारी एजेंसियों के दुरुपयोग से डरने वाले नहीं हैं।’ कांग्रेस नेता ने पूछा कि मोदी सरकार बीजेपी के उन नेताओं के खिलाफ सीबीआई का इस्तेमाल क्यों नहीं कर रही है, जिन पर गंभीर आरोप हैं? शर्मा ने कहा कि सरकार में आने पर वह उन अधिकारियों की जवाबदेही सुनिश्चित करेगी जो प्रधानमंत्री और अमित शाह के इशारे पर विरोधियों को परेशान कर रहे हैं।
कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ने पत्रकारों से कहा, ‘प्रधानमंत्री और बीजेपी सरकार की दुर्भावना और प्रतिशोध की भावना एक बार फिर प्रकट हुई है। वह सरकारी एजेंसियों का इस्तेमाल विरोधियों को परेशान करने के लिए कर रही है।’ उन्होंने कहा, ‘वह पहले सीबीआई को दुरुस्त कर लेते तो अच्छा होता। हाल में जो विवाद हुआ है, उस कारण इसकी विश्वसनीयता नहीं है।’
शर्मा ने कहा, ‘सुबह हुड्डा के यहां छापेमारी हुई है। हम उसकी कड़े शब्दों में निंदा करते हैं। यह बदले की भावना से किया गया है। सरकार की नीयत और नीति खराब है। चुनाव के नजदीक आने के साथ ही इस तरह की कोशिशें बढ़ती जा रहीं हैं।’ उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री और बीजेपी यही संदेश देना चाहते हैं कि विपक्ष भयभीत होकर बैठ जाए। देश के लोग भी इसे समझ रहे हैं।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »