CWC की बैठक में फिर सामने आई कांग्रेस की कलह, आनंद शर्मा और गहलोत भिड़े

नई दिल्‍ली। कांग्रेस में फैसले लेने वाली सबसे बड़ी कांग्रेस वर्किंग कमेटी CWC की बैठक में एकबार फिर कांग्रेस की कलह खुलकर सामने आ गई। नए अध्यक्ष के चुनाव को लेकर देश की यह सबसे पुरानी पार्टी दो खेमों में बंटी हुई है। शुक्रवार को बैठक के दौरान कांग्रेस की यह कलह एक बार फिर सतह पर आ गई। टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक सोनिया गांधी के सामने ही वरिष्ठ कांग्रेस नेता आनंद शर्मा और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आपस में उलझ पड़े। बताया जा रहा है कि कांग्रेस में नए अध्यक्ष का चुनाव मई तक खिसक सकता है।
अशोक गहलोत और आनंद शर्मा के बीच तीखी बहस
टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक CWC की बैठक में कांग्रेस नेता अशोक गहलोत और आनंद शर्मा के बीच तीखी बहस हुई। बताया जा रहा है कि अशोक गहलोत ने आनंद शर्मा पर भड़कते हुए कहा कि आप हर 6 महीने में अध्यक्ष का चुनाव मांगते हैं, क्या आपको पार्टी के नेतृत्व पर भरोसा नहीं है। इस पर पार्टी की वरिष्ठ नेता अंबिका सोनी को बीच-बचाव करना पड़ा। उन्होंने दोनों को टोकते हुए कहा कि वे ज्यादा भावुक न हों।
CWC की बैठक में ये प्रस्ताव किए गए पास
CWC की बैठक में किसानों के मामले पर एक प्रस्ताव पारित किया गया। कोरोना वैक्सीन के लिए वैज्ञानिकों को धन्यवाद देने और लोगों से टीका लगवाने के लिए आगे आने की अपील करते हुए भी एक प्रस्ताव पास किया गया। इसके अलावा वॉट्सऐप चैट लीक की जेपीसी जांच को लेकर भी एक प्रस्ताव पारित हुआ।
CWC की बैठक में सरकार पर बरसीं सोनिया गांधी
कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक को संबोधित करते हुए अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। सोनिया गांधी ने कहा कि किसानों के मुद्दे पर सरकार का घमंड और असंवेदनशीलता साफ नजर आ रही है। सोनिया गांधी ने कहा कि नए कृषि कानूनों को जल्दबाजी में लागू किया गया, इस पर संसद में सही तरीके से चर्चा तक नहीं की गई।
जी-23 नेताओं ने पत्र लिखकर शीर्ष नेतृत्व पर सवाल उठाया था
कांग्रेस में पार्टी नेतृत्व को लेकर बीते साल 23 सीनियर नेताओं ने सोनिया गांधी को एक चिट्ठी भी लिखी थी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद के नेतृत्व में ये पत्र लिखा गया था। इन नेताओं में कपिल सिब्बल और आनंद शर्मा सरीखे नेता भी शामिल थे। इस ‘लेटर बम’ के बाद कांग्रेस में भूचाल आ गया था जिसके बाद आनन फानन में CWC की बैठक बुलाई गई और असहमत नेताओं को शांत करने के लिए एक कमेटी बनाई गई थी।
CWC की बैठक में राहुल को फिर से अध्यक्ष बनाने की हुई थी मांग
‘लेटर बम’ के बाद सोनिया गांधी की अध्यक्षता में हुई बैठक में गांधी परिवार के करीबी नेताओं ने एक बार फिर राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनाने की मांग की थी। हालांकि खुद राहुल गांधी इससे इंकार करते रहे। सोनिया गांधी ने नाराज नेताओं को मनाने के लिए जो कमेटी बनाई थी उसमें पूर्व पीएम मनमोहन सिंह भी शामिल थे।
कपिल सिब्बल बोले, स्थिति जस की तस
कांग्रेस नेता कपिल सिब्ब्ल ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को लेकर अपनी नाराजगी फिर से जाहिर की। उन्होंने कहा कि संगठनात्मक बदलाव की मांग को लेकर 23 नेताओं ने सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी, उनसे मुलाकात की। इसके बावजूद आंतरिक चुनाव को लेकर अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं हुआ है। स्थिति जस की तस बनी हुई है। सिब्बल ने कहा कि सोनिया गांधी ने इस पर खुली चर्चा की थी लेकिन आंतरिक चुनाव के लेकर अबतक कोई रेस्पॉन्स नहीं आया है और न ही ये पता है कि यह कब और कैसे होगा।
नए कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर गहलोत के नाम की चर्चा
वहीं, अंदरखाने खबर यह भी आ रही है कि अगर राहुल गांधी फिर से कांग्रेस अध्यक्ष बनने से मना करते हैं तो अशोक गहलोत को कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी जा सकती है। इस बात की संभावना इसलिए भी जताई जा रही है क्योंकि गहलोत गांधी परिवार के बेहद करीबी और विश्वसनीय हैं। राजस्थान में मुख्यमंत्री बनाने के लिए भी उनको सचिन पायलट पर तरजीह दी गई थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *