कांग्रेस ने नए और पदोन्नत मंत्रियों को अयोग्य बताया

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी के कैबिनेट विस्तार के बाद कांग्रेस ने हमला बोलते हुए नए और पदोन्नत मंत्रियों को अयोग्य बताया है। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा कि इस सरकार में कौशल विकास और रोजगार पर कोई काम नहीं हो पाया इसीलिए राजीव प्रताप रूडी और दत्तात्रेय को मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया गया है।
तिवारी ने धर्मेंद्र प्रधान पर निशाना साधते हुए कहा कि एक आदमी को फायदा पहुंचाने के लिए यह फेरबदल किया गया है।
मनीष तिवार ने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने मंत्रिमंडल का विस्तार किया। कुछ नए मंत्रियों को शपथ दिलाई। कई को पद से हटाया। इसमें आश्चर्यजनक यह है कि सारी प्रक्रिया से पीएम खुद बाहर दिखे। सारी प्रक्रिया अमित शाह चला रहे थे। ऐसा लगता था कि भारत के पीएम अमित शाह हैं। पहली बार ऐसा हुआ है कि पीएम नरेंद्र मोदी जो मंत्रिमंडल के मुखिया हैं, जिनके साथ बाकी मंत्री काम करते हैं वह ऐसे अलग-थलग थे। या तो उनमें हिम्मत नहीं थी कि अपने मंत्रियों की पफॉरमेंस के बारे में कुछ कहें या उनकी सरकार में कोई दिलचस्पी नहीं रही।’
तिवारी ने कहा कि मंत्री अमित शाह के घर इस्तीफा देने के लिए जा रहे थे। ऐसा कभी नहीं हुआ। मंत्रियों की आयु का जिक्र करते हुए कांग्रेस ने कहा कि ऐसा लगता है कि पीएम ने सीनियर सिटीजन्स क्लब का गठन किया है। इनकी औसत आयु 60.44 साल बनती है। तिवारी बोले, ‘जिस मुल्क में लोगों की औसत आयु 27 साल है। यह वह पीएम हैं जो भारत के नौजवानों की आशाओं और अपेक्षाओं को लेकर लंबे-लंबे भाषण दिया करते थे।’
तिवारी ने अनंत कुमार हेगड़े पर कहा, ‘सबसे चिंताजनक तो यह है कि जो हेगड़े जी, जिनको सरकार में शामिल किया गया है। जनवरी 2017 को इन्हें कैमरे पर डॉक्टरों की पिटाई करते हुए देखा गया था। एक तरफ कांग्रेस है जिसने ऑल इंडिया प्रफेशनल कांग्रेस का गठन किया है। दूसरी तरफ डॉक्टरों को पीटने वाला मंत्री बन रहा है। कहीं उन्हें भारत का स्वास्थ्य मंत्री न बना दें।’
-एजेंसी