हिज़ाब पहनने वालों को नौकरी से निकाल सकती हैं कंपनियां

Companies can remove hijab workers from job, european court of justice,s verdict
हिज़ाब पहनने वालों को नौकरी से निकाल सकती हैं कंपनियां

लग्जमबर्ग। हिज़ाब पहनकर दफ्तर आने वाली महिला कर्मचारियों से जुड़े मामले पर यूरोपियन कोर्ट ऑफ जस्टिस ने यह अपना पहला फैसला दिया है।

यूरोपियन कोर्ट ऑफ जस्टिस ने मंगलवार को फैसला दिया है कि यूरोप में कंपनियां ऐसे कर्मचारियों को अपने यहां काम करने से रोक सकती हैं जो धर्म से जुड़े किसी भी संकेत को इस तरह के पहनकर आते हैं कि वह साफ तौर पर दिखे।

दरअसल यह फैसला फ्रांस और बेल्जियम की उन दो महिलाओं से जुड़े मामले में संयुक्त रूप से दिया गया है कि जिसमें महिलाओं को इसलिए नौकरी से निकाल दिया गया था क्योंकि उन्होंने अपना हिज़ाब उतारने से इनकार कर दिया था।

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा, ‘किसी कंपनी का अंदरूनी नियम जो किसी भी राजनीतिक, दार्शनिक और धार्मिक संकेत को पहनने रोक लगाता है, उसे सीधा भेदभाव नहीं माना जा सकता।’ हालांकि अदालत ने यह भी कहा कि किसी कस्टमर की इच्छा पर कंपनी ऐसे फैसले नहीं कर सकती। फैसले के अनुसार अगर कंपनी किसी भी प्रकार की ऐसी चीज़ों के पहनने पर पाबंदी लगाती है तो इसे भेदभाव नहीं माना जा सकता।

कोर्ट का यह फैसला ऐसे वक्त में आया है जब नीदरलैंड में होने वाले चुनाव में मुस्लिम प्रवासियों का मसला काफी पुरजोर तरीके से उठाया जा रहा है और और पूरे यूरोप में प्रवासियों और शरणार्थी नीतियों को लेकर काफी चर्चा हो रही है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *