कॉमेडियन कृष्णा ने कहा: कास्टिंग काउच जैसी कोई चीज नहीं, सब ब्लैकमेलिंग

मुंबई। कॉमिडी फिल्म 'शर्मा जी की लग गई' में ऐक्ट्रेस मुग्धा गोडसे के साथ एक आइटम करने पहुंचे कृष्णा अभिषेक ने अपनी फिल्म के अलावा कास्टिंग काउच और देश में लगातार बढ़ते रेप के केस पर भी बात की। 
बॉलिवुड में कास्टिंग काउच को लेकर सरोज खान का विवादित बयान सामने आने के बाद उन्होंने माफी जरूर मांग ली थी लेकिन अब बॉलिवुड में कास्टिंग काउच को लेकर तमाम सितारे खुलकर बोल रहे हैं। कॉमेडियन और ऐक्टर कृष्णा अभिषेक ने कहा कि फिल्म इंडस्ट्री में कास्टिंग काउच जैसी कोई चीज नहीं होती, यह सब ब्लैकमेलिंग का खेल है। लड़कियां खुद कांड करती हैं और बाद में आरोप लगा देती हैं। 
किसी एक की गलती पर पूरी बिरादरी पर क्यों उंगली उठाई जाती है? 
कृष्णा कहते हैं, 'कास्टिंग काउच को लेकर जो भी सरोज खान जी ने कहा, वह उनका पॉइंट ऑफ व्यू है, मैं उनसे एग्री नहीं करता हूं। आप किसी नेता पर उंगली उठाकर सभी को बुरा नहीं कह सकते हैं क्‍यों हमारे देश में अच्छे नेता भी हैं। किसी भी बिजनेस में अच्छे और बुरे लोग तो होते ही हैं। हमारी फिल्म लाइन में भी कुछ ऐक्टर्स अच्छे होते हैं और कुछ अच्छे नहीं होते हैं, जो सही नहीं है वह घर बैठा है, जो अच्छा है वह चल रहा है और काम कर रहा है। मैं सोचता हूं किसी एक की गलती पर पूरी बिरादरी पर क्यों उंगली उठाई जाती है?' 
कॉर्पोरेट वर्ल्ड में बहुत ज्यादा कास्टिंग काउच होता है 
कृष्णा अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहते हैं, 'कास्टिंग काउच जैसी चीज कुछ होती नहीं है। यह सब ब्लैकमेल करने वाला हिसाब होता है। फिल्म इंडस्ट्री में कास्टिंग काउच कम होता है और बाहर दूसरे बिजनेस में ज्यादा होता है, खास तौर पर कॉर्पोरेट वर्ल्ड में बहुत ज्यादा कास्टिंग काउच होता है। फिल्म वालों पर बार-बार उंगली उठाई जाती है कि फिल्मी लोग ही कास्टिंग काउच और लड़कीबाजी करते हैं… ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमलोग मीडिया में हैं और हर दूसरे-चौथे दिन हमारे बारे में कुछ न कुछ छपता ही रहता है।' 
कास्टिंग काउच तो फिर कॉलेज में भी होता है 
कृष्णा आगे कहते हैं, 'यहां कास्टिंग काउच नहीं ब्लैकमेलिंग होता है। लड़कियां खुद से कांड करती हैं और बाद में जाकर ब्लैकमेल करती हैं कि फलां आदमी ने ऐसा किया था। यह गलत बात है। अगर ऐसा है तो कास्टिंग काउच तो फिर कॉलेज में भी होता है। कॉलेज में तो मेजर होगा। आप मेरे साथ रेक्लेमेशन बांद्रा (मुंबई का एक इलाका) में चलिए, लाइन से खड़ी गाड़ियों में पता नहीं क्या-क्या हो रहा होता है। बाद में लड़की बाहर निकल कर बोले कि इसने मेरे साथ गलत किया, अरे क्या गलत किया? 
आरोपियों को लाखों पब्लिक के हवाले कर देना चाहिए 
देश में लगातार घट रहे बलात्कार की घटनाओं के बारे में बात करते हुए कृष्णा ने कहा, 'पुलिस और सरकार तो अपना काम कर ही रही है लेकिन मुझे लगता है इन आरोपियों को इंडिया गेट में लाखों की संख्या में पब्लिक को बुलाकार उनके हवाले कर देना चाहिए। जिस दिन ऐसा शुरू हो जाएगा लोग डरना शुरू हो जाएंगे।' 
-एजेंसी 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »