Coimbatore की आरएसएस बैठक में केरल का मुद्दा प्रमुख रहेगा

Coimbatore Kerala's main issue in RSS meeting
Coimbatore की आरएसएस बैठक में केरल का मुद्दा प्रमुख रहेगा

तमिलनाडु के Coimbatore में हो रही आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की सालाना बैठक कोयंबटूर में 19, 20 और 21 मार्च को आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत समेत संगठन के सभी दिग्गज जुटेंगे. इस बैठक में संघ के करीब 1500 कार्यकर्ता शिरकत करने वाले हैं.

तीन दिनों तक चलने वाले इस मंथन में इस बार केरल का मुद्दा छाए रहने की उम्मीद है. केरल में हाल के दिनों में आरएसएस के कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसा की कई घटनाएं हुई हैं. उधर सीपीएम की तरफ से आरएसएस कार्यकर्ताओं पर हमले के आरोप लगे हैं.

संघ की तरफ से इस बात को हर फोरम पर उठाया जाता रहा है, लेकिन, केरल में पी विजयन के नेतृत्व में लेफ्ट की सरकार बनने के बाद हिंसा की घटनाओं में आई बढ़ोतरी ने केरल से लेकर दिल्ली तक सियासी बवाल बढ़ा दिया है. आरएसएस के एक नेता के केरल सीएम के सिर लाने पर इनाम वाले बयान ने माहौल गरमाया.

आरएसएस की तरफ से लगातार आरोप लगाए जा रहे हैं और इस बाबत विरोध प्रदर्शन भी लगातार हो रहे हैं लेकिन अबतक आरएसएस कार्यकर्ताओं पर हमले थमते नजर नहीं आ रहे हैं. केरल से सटे तमिलनाडु में ही इस बार संघ की प्रतिनिधि सभा की बैठक होने जा रही है. जिसमें केरल में हो रहे हमले को लेकर गंभीर चर्चा होनी है.

आरएसएस सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में आरएसएस के आनुषंगिक संगठनों के कामकाज का ब्योरा रखा जाएगा जिस पर विस्तार से चर्चा होगी.

भारतीय मजदूर संघ, स्वदेशी जागरण मंच, सेवा भारती, क्रीडा भारती, सेवा भारती, संस्कृत भारती, विद्या भारती और अखिल भारतीय परिषद समेत संघ के सभी आनुषंगिक संगठनों के कामकाज का प्रेजेंटेशन भी होगा और इस बैठक में आगे की रणनीति को अलग धार देने की कोशिश भी होगी.

तीन दिनों तक चलने वाली मीटिंग में भारतीय जनता पार्टी की तरफ से संगठन महासचिव रामलाल के अलावा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह भी शिरकत करेंगे. इसमें बीजेपी के कामकाज और आगे के रोडमैप के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी जाएगी.

11 मार्च को यूपी समेत पांच राज्यों के चुनाव परिणाम आ जाएंगे और संघ की प्रतिनिधि सभा की बैठक से पहले सरकारें भी बन चुकी होगी. बीजेपी के लिए 2019 के लोकसभा चुनाव के रोडमैप के लिहाज से इन सभी राज्यों का चुनाव परिणाम खासा महत्वपूर्ण हो गया है. आरएसएस की बैठक में भी आगे के रोडमैप और संघ-बीजेपी के बीच बेहतर समन्वय पर चर्चा होगी.

-Agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *