सम्‍मानजनक सीटें मिलने पर ही गठबंधन, रावण से मेरा कोई रिश्‍ता नहीं: मायावती

लखनऊ। 2019 में बीजेपी को सत्ता में आने से रोकने के लिए यूपी में संभावित महागठबंधन पर बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने रविवार को बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि गठबंधन तभी होगा जब हमें सम्मानजनक सीटें मिलेंगी, नहीं तो बीएसपी अकेले चुनाव लड़ेगी। हाल ही में जेल से रिहा हुए भीम आर्मी के मुखिया चन्द्रशेखर रावण की बुआ वाली टिप्पणी पर मायावती ने दो टूक कहा कि उनका किसी के साथ भाई-बहन या बुआ-भतीजे का रिश्ता नहीं है। बता दें कि जेल से रिहा होने के बाद सहारनपुर दंगे के आरोपी रावण ने मायावती की खुलकर तारीफ की थी। मायावती को बुआ समान बताते हुए रावण ने अपने समर्थकों से बीजेपी को उखाड़ फेंकने की अपील की है।
रावण की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर मायावती ने कहा, ‘मेरा ऐसे लोगों से कोई रिश्ता नहीं है। मेरा रिश्ता सिर्फ आम आदमी, दलितों, आदिवासियों और पिछड़े लोगों से है।’ बीएसपी सुप्रीमो ने दो टूक कहा कि उनका किसी के साथ भाई-बहन या बुआ-भतीजे का रिश्ता नहीं है।
…तो अकेले चुनाव लड़ेगी बीएसपी
बीजेपी के खिलाफ यूपी में गठबंधन के बारे में मायावती ने कहा, ‘हम किसी भी जगह और किसी भी चुनाव में गठबंधन के लिए तैयार हैं लेकिन यह तभी होगा जब हमें सम्मानजनक सीटें मिलेंगी। ऐसा नहीं हुआ तो बीएसपी अकेले चुनाव लड़ेगी।’ हालांकि इस दौरान मायावती ने बीजेपी को रोकने के लिए गठबंधन को अहम भी बताया। माना जा रहा है कि मायावती ने एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव पर सीटों के बंटवारे से पहले दबाव बनाने की रणनीति के तहत यह बयान दिया है।
दरअसल, यूपी में काफी समय से एसपी-बीएसपी और कांग्रेस के बीच बिहार की तर्ज पर 2019 लोकसभा चुनाव में महागठबंधन की अटकलें लगती रही हैं। हालांकि अभी तक इस मुद्दे पर ये पार्टियां साफ तौर पर कुछ भी कहने से बचती रही हैं। एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव जरूर बीच-बीच में बीएसपी के साथ गठबंधन के संकेत देते रहे हैं।
महंगाई पर बीजेपी को घेरा
उधर, प्रेस वार्ता में मायावती ने महंगाई को लेकर केंद्र की मोदी सरकार को भी घेरा। मायावती ने कहा कि बीजेपी महंगाई और बेरोजगारी पर लगाम लगाने में विफल रही है। उन्होंने नोटबंदी का भी जिक्र किया और कहा कि नोटबंदी राष्ट्रीय त्रासदी के रूप में सामने है। वहीं, राफेल घोटाले को लेकर भी बीएसपी सुप्रीमो ने बीजेपी पर निशाना साधा। पूर्व मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि बीजेपी अटलजी के मौत का भी सियासी फायदा उठाने में जुटी है। उन्होंने बीजेपी पर भीड़तंत्र को बढ़ावा देने का भी आरोप लगाया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »