कोच और कप्तान ने बताया, टीम इंडिया के वर्ल्ड कप मिशन में क्‍यों जरूरी हैं धोनी

मुंबई। आईपीएल के बाद भारतीय टीम अब अपने वर्ल्ड कप मिशन के लिए कमर कस रही है। जल्दी ही टीम इंडिया अपने तीसरे वर्ल्ड कप खिताब पर कब्जा जमाने का लक्ष्य लेकर इंग्लैंड रवाना होगी। इससे पहले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और चीफ कोच रवि शास्त्री ने एक अंग्रेजी अखबार का इंटरव्‍यू दिया।
इस इंटरव्‍यू में कोच और कप्तान ने अपने कामकाज के तौर-तरीके, टीम की परफॉर्मेंस, उसकी उपलब्धियों के साथ-साथ खिलाड़ियों के खेल और उनकी फिटनेस पर भी बात की।
इस विस्तृत बातचीत में कोच और कप्तान ने बताया कि टीम इंडिया के वर्ल्ड कप मिशन में अनुभवी खिलाड़ी और पूर्व कप्तान एमएस धोनी क्यों खास हैं।
विराट ने बताया कि धोनी के टीम में होने से टीम इंडिया अनुभव के मामले में बाकी टीमों में सबसे ज्यादा धनी नजर आती है। इस विस्तृत चर्चा के दौरान जब विराट कोहली और रवि शास्त्री से एमएस धोनी को लेकर प्रश्न पूछे तो कुछ ऐसा बोले टीम इंडिया के कोच और कप्तान…
एमएस धोनी पर इन दिनों जब बात होती है तो लोग उन्हें डिफेंडिंग बल्लेबाज मानते हैं- जब उनका दिन होता है तो फिर वह करिश्मा दिखाने से नहीं चूकते। जब उनका दिन नहीं होता तो लगता है कि वह एक आधे ही बल्लेबाज हैं…
विराट: मैं उनके बारे में क्या कह सकता हूं। मैंने उनकी देखरेख में अपना करियर शुरू किया और बीते कुछ सालों में ऐसे कई लोग हैं, जिन्होंने उन्हें बहुत करीब से देखा है, मैं भी उनमें से एक हूं। एमएस में एक बात सबसे खास है, जो बाकी दूसरी किसी भी बात से ज्यादा महत्वपूर्ण है- उनके लिए टीम का हित हमेशा किसी भी दूसरी चीज से बढ़कर है। वह हमेशा टीम के बारे में सोचते हैं। सबसे पहले आप देखें कि उनके टीम में होने से उनके पास जो अनुभव है, उससे हमारी टीम कहां खड़ी होती है? उनके टीम में होने से हमारी टीम अनुभव में सबसे ज्यादा धनी दिखती है। स्टंप्स के पीछे उनके द्वारा ली जाने वाली विकटों को देखें तो वे ज्यादातर ऐसे विकेट होते हैं, जो मैच का रुख बदल देते हैं। हाल ही में उन्होंने IPL में भी ऐसा ही करके दिखाया।
लेकिन उन्हें इन दिनों काफी आलोचना का भी सामना करना पड़ रहा है…
विराट: ईमानदारी से कहूं तो यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। मैं समझता हूं कि लोगों में धैर्य की बहुत कमी है। जैसे ही उनका एक दिन खराब गया तो लोग कुछ भी बोल देते हैं लेकिन सच्‍चाई यह है कि एमएस धोनी इस खेल के बेहद स्मार्ट खिलाड़ियों में एक हैं। विकेट के पीछे, जैसा मैंने पहले ही कहा कि वह अनमोल हैं। उनके होने से मुझे अपनी चीजें करने की आजादी मिलती है। एमएस जैसी शख्सियत अगर टीम के साथ हो तो वह अनुभव के आधार पर टीम में चार चांद होने जैसा है।
नेतृत्वक्षमता के दृष्टिकोण से भी एमएस धोनी से काफी उम्मीदें हैं…
विराट और रवि: एमएस और रोहित- दोनों ही। बतौर कप्तान (आईपीएल में) उन दोनों ने अपने-अपने रोल में खुद को साबित किया है। एमएस के पास तो खासतौर से इसकी विरासत है। यह टीम के लिए बहुत महत्वपूर्ण है कि टीम का मार्गदर्शन करने के लिए टीम के पास उनके (रोहित और धोनी) जैसे दो खिलाड़ी मौजूद हैं इसलिए टीम मैनेजमेंट ने यह निर्णय किया है कि टीम की रणनीति बनाने के लिए टीम के थिंक टैंक में हमारे साथ-साथ (विराट और रवि) इन दोनों खिलाड़ियों (धोनी और रोहित) को भी खास जगह दी गई है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »