लखीमपुर खीरी कांड पर CM योगी ने कहा, किसी के दबाव में कार्रवाई नहीं होगी

लखनऊ। लखीमपुर खीरी कांड पर CM योगी आदित्यनाथ ने कहा कि दोषी बख्शे नहीं जाएंगे लेकिन किसी के दबाव में कोई कार्रवाई नहीं होगी। योगी आदित्यनाथ ने राहुल, प्रियंका गांधी और अखिलेश यादव समेत विपक्ष के नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि ये कोई सद्भावना के दूत नहीं है, बल्कि नकारात्मकता फैलाना इनका काम है। योगी ने एक टीवी न्यूज़ चैनल में चर्चा के दौरान विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि कोरोना के वक्त ये लोग कहां थे।
लखीमपुर खीरी हिंसा पर योगी ने कहा, लखीमपुर खीरी की घटना दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है। लोकतंत्र में हिंसा का स्थान नहीं है। कानून को हाथ में लेने का अधिकार किसी को नहीं है। कानून सबके लिए समान है, लेकिन हां… सुप्रीम कोर्ट के स्थापित नियम हैं कि गिरफ्तारी से पहले आपके पास पर्याप्त साक्ष्य भी होने चाहिए। हम किसी के दबाव में अनावश्यक किसी को गिरफ्तार नहीं करेंगे लेकिन दोषी होगा तो छोड़ेंगे भी नहीं, चाहे वो कोई भी हो।’
योगी ने आगे कहा, ‘हमने नंबर जारी किया है ताकि जिसके पास घटना के जुड़े साक्ष्य हैं तो इस पर अपलोड करे। दूध का दूध, पानी का पानी होगा। अन्याय किसी के साथ नहीं होगा, कानून हाथ में लेने की छूट किसी को नहीं होगी।’ योगी ने आगे बताया, ‘मामले में पुलिस की ओर से एक एसआईटी गठित हुई है और एक जुडिशल कमीशन भी बनाया गया है।’
खीरी कांड की जांच को लेकर योगी ने बताया, ‘जुडिशल कमीशन घटना के कारणों के बारे में छानबीन करेगा जबकि एसआईटी जिसमें डीआईजी स्तर और अडिशनल एसपी स्तर के अधिकारी हैं, पूरे मामले की तह तक जाएंगे। उन सभी वांछितों को जिनके नाम दिए गए हैं, जिनके वीडियो आ रहें जिनपर कंफर्म हो गया है कि वे हिंसा में शामिल थे, उनकी गिरफ्तारी शुरू हो चुकी है। जिनके खिलाफ पुख्ता साक्ष्य मिले हैं उनकी गिरफ्तारी होगी और कड़ी कार्रवाई होगी।’
लखीमपुर खीरी मामले में हो रही राजनीति को लेकर योगी ने विपक्ष पर निशाना साधा। योगी ने कहा, ‘देश में जब हर व्यक्ति जीवन और जीविका के बीच जद्दोजहद कर रहा था तो केंद्र और राज्य सरकार ही उनके साथ खड़ा था। तब इन विपक्षी दलों या उनके नेता की उपस्थिति कहीं नहीं थी। मार्च 2020 से लेकर अक्टूबर 2021 के बीच में भी लगभग यही स्थिति रही लेकिन अचानक उनकी नींद खुली।’
सीएम योगी ने आगे कहा, ‘उन्हें लगा कि लखीमपुर खीरी एक बहाना है लेकिन शांति और सौहार्द बनाना सरकार की प्राथमिकता होती है, हमने वही किया। वे कोई सद्भावना के दूत नहीं थे, ये वहां दुर्भावनापूर्ण आपसी द्वेष और संघर्षपूर्ण माहौल पैदा करने चाहते थे जो हम कतई नहीं होने देंगे।’ प्रियंका के गेस्ट हाउस में झाड़ू लगाने के वायरल वीडियो पर योगी ने कहा, ‘जनता उनको उसी लायक बनाना चाहती है और जनता ने उन्हे उसी लायक बना दिया है। इनके पास उपद्रव करने और नकारात्मकता फैलाने के अलावा कोई काम नहीं है।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *