Greater Noida पहुंचे सीएम योगी, तीनों प्राधिकरणों की समीक्षा बैठक शुरू

ग्रेटर नोएडा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज गौतमबुद्धनगर Greater Noida के दौरे पर आए हैं। शाम करीब 4.30 बजे Greater Noida के एक्सपोमार्ट पहुंचे मुख्यमंत्री यहां नोएडा, Greater Noida और यमुना प्राधिकरण की समीक्षा कर रहे हैं। यह पहली बार हो रहा है कि कोई मुख्यमंत्री प्राधिकरणों की समीक्षा के लिए खुद यहां आए हैं। मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर कई दिन से प्राधिकरणों में तैयारियां जोर-शोर से चल रही थीं।
जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को शुक्रवार दोपहर 3 बजे ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण कार्यालय पहुंचना था लेकिन वह अपने निर्धारित समय से करीब डेढ़ घंटे देरी से हेलिकॉप्टर के जरिए एक्सपो मार्ट पहुंचे। इसके बाद सीधे तीनों प्राधिकरणों की समीक्षा बैठक के लिए रवाना हो गए। समीक्षा बैठक अब तक जारी है।
बताया जा रहा है कि बैठक में दो साल में हुए कामों की समीक्षा की जाएगी। प्राधिकरणों में अब तक क्या-क्या काम हुए हैं, इस पर चर्चा होगी। इसके अलावा आगामी दो सालों के रोडमैप को अंतिम रूप दिया जाएगा। दो सालों में किन-किन कामों को किया जाएगा, उनकी क्या टाइम लाइन है, उनकी निगरानी कौन करेगा आदि बिंदुओं पर चर्चा होने की उम्मीद है। इन सब बिंदुओं पर प्राधिकरणों के अफसरों ने तैयारी कर ली है। इसके अलावा बैठक में कई और मुद्दे हैं, जो उठाए जा सकते हैं। बैठक के बाद मुख्यमंत्री तीनों प्राधिकरणों के खरीददारों से मुलाकात करेंगे। फिर तीनों प्राधिकरणों के उद्यमियों के साथ चर्चा करेंगे। 7 बजे से बिल्डरों व किसानों के साथ वार्ता होने की उम्मीद है।
मुख्यमंत्री के ग्रेटर नोएडा आगमन को लेकर पुलिस ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं। मेरठ जोन के 800 पुलिसकर्मी सुरक्षा में तैनात रहेंगे। मुख्यमंत्री के आगमन को देखते हुए प्राधिकरण ने परी चौक समेत शहर के चार चौराहों को पेड़ पौधे और फूलों से सजाया है।
बैठक में इन मुद्दों पर चर्चा की उम्मीद
लोगों को फ्लैट दिलाना : नोएडा, ग्रेटर नोएडा व यमुना सिटी में बिल्डर प्रोजेक्ट्स में लोगों ने फ्लैट बुक करा लिए लेकिन अब तक उनको फ्लैट पर कब्जा नहीं मिल पाया है। इस मुद्दे पर बैठक में चर्चा हो सकती है।
कूड़ा निस्तारण : नोएडा-ग्रेटर नोएडा में कूड़ा निस्तारण बड़ी समस्या है। हर जगह कूड़ा फैला मिल जाता है। अभी दोनों शहरों में डंपिंग ग्राउंड तक नहीं है। बैठक में इस समस्या को हल करने पर बात हो सकती है।
ट्रैफिक जाम : नोएडा में जाम की समस्या दिनों-दिन बढ़ रही है। ग्रेटर नोएडा भी इसकी जद में आ रहा है। जाम खत्म करने के लिए अमल नहीं हो पा रहा है। यह समस्या खत्म करने के लिए चर्चा होने की उम्मीद है।
प्राधिकरणों पर कर्ज : ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरणों पर करोड़ों रुपये का कर्ज है। दोनों प्राधिकरणों ने नोएडा प्राधिकरण से कर्ज ले रखा है। आमदनी बढ़ाने के विकल्पों पर विचार हो सकता है ताकि शहर की सेहत सुधर सके।
प्रदूषण से निजात : नोएडा-ग्रेटर नोएडा में प्रदूषण बड़ी समस्या है। निर्माण कार्य के चलते चारों ओर धूल उड़ती रहती है। प्रदूषित शहरों की सूची में इसका नाम आगे रहता है। इस समस्या से निपटने के लिए बात हो सकती है।
नगर निगम : शहर के सुधार के लिए नोएडा-ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण क्षेत्र में नगर निगम बनाने की मांग काफी दिनों से चल रही है। डीएम ने खुद इसका प्रस्ताव शासन को भेजा था। बैठक में इस पर भी फैसला होने की उम्मीद है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »