Basti में सीएम योगी ने क‍िया मुंडेरवा चीनी मिल का उद्घाटन

बस्ती। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार को Basti स्थित मुंडेरवा चीनी मिल का उद्घाटन किया। इसके साथ ही 21 सालों से बंद पड़ी यह चीनी फिर से चालू हो गई है। इस मिल को चालू कराने को लेकर 2002 में हुए आंदोलन में तीन किसान मारे गए थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस मिल के उद्घाटन के बाद मारे गए तीन दिवंगत किसानों को श्रद्धांजलि दी। अप्रैल 2-19 में इस मिल का ट्रायल हुआ था अब उद्घाटन के बाद विधिवत इस मिल का संचालन शुरु हो जाएगा।

बता दें कि पूर्वांचल के गन्ना बेल्ट के Basti जिले में स्थित यह चीनी मिल 1998 में बंद कर दी गई थी। मिल बंद होने के साथ ही इससे जुड़े हजारों किसानों और व्यापारियों की खुशी भी छिन गई थी। इसके विरोध में चले लंबे आंदोलन के दौरान 2002 में तीन किसानों की मौत हो गई थी।

मुख्यमंत्री ने कहा क‍ि उनके 30 माह के कार्यकाल में यहां के प्रतिनिधि चीनी मिल की बात करते थे। आश्वासन दिया था और आखिरकार आज इसके शुभारंभ का दिन आ गया। मिल अब प्रतिदिन 50 हजार कुंतल की पेराई करेगी। 27 मेगावाट बिजली भी यहां से उत्पन्न होगी। रोजगार के मोर्चे पर पूर्ववर्ती सपा सरकार को घेरते हुए उन्‍होंने कहा कि उनकी सरकार 49 हजार पुलिस भर्ती करने जा रही है। ट्रेंनिग के बाद वे अपनी सेवा शुरू करेंगे। ये भर्तियां पारदर्शी तरीके से हुईं। ‘सैफई घराना’ जैसी वसूली नहीं होने दी गई।

बस्ती में पवित्र धरती पर पुत्रेष्टि यज्ञ हुआ था 

सीएम ने कहा कि चुनाव के समय का नारा ‘मोदी है तो मुमकिन है’ जमीन पर उतर रहा है। अगले साल गोरखपुर का खाद कारखाना शुरू हो जाएगा। पूर्वांचल का नौजवान विदेश में काम खोजने नहीं जाएगा। उसे यहीं पर रोजगार मिलेगा। इस मौके पर सीएम ने 116 करोड़ की 49 परियोजना का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया। अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए उन्‍होंने कहा कि बस्ती में मेडिकल कॉलेज का शुभारंभ हो चुका है। इसे महर्षि वशिष्ठ का नाम दिया गया। उन्होंने राम का गुरुकुल चलाया। बस्ती में पवित्र धरती पर पुत्रेष्टि यज्ञ हुआ।

एक नजर में मुण्डेरवा चीनी मिल

1932 में माधो महेश शुगर मिल प्रा. लि. मुण्डेरवा की सात एकड़ में स्थापना हुई।
1984 में को उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने अधिगृहीत कर लिया।
1989 में मिल को विस्तार देने के लिए अगल-बगल के जमीनों का अधिग्रहण हुआ।
1998 में तत्कालीन सरकार मिल के घाटे में चलने के चलते ने बन्द कर दिया।
2017 में मुख्यमंत्री बनते ही योगी आदित्यनाथ ने मिल के पुन: चलाने की घोषणा की।
– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »