CM Helpline 1076 का लोकार्पण, 24 घंटे सुनी जाएंगी जनसमस्याएं

लखनऊ। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम में सीएम हेल्पलाइन 1076 का लोकार्पण किया। इस 500 सीटर हेल्पलाइन पर 24 घंटे जनता की समस्याएं सुनी जाएंगी। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा व मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय सहित वरिष्ठ अधिकारी मौजूद हैं। इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह हेल्पलाइन आम लोगों के लिए खोली गई है जिससे कि उनकी समस्याओं का त्वरित निस्तारण किया जा सके।

इस मौके पर उनके साथ डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा, राज्य मंत्री मोहसिन रजा व मुख्य सचिव डॉ. अनूप चंद्र पाण्डेय भी मौजूद थे। इस 500 सीटर हेल्पलाइन पर 24 घंटे जनता की समस्याएं सुनी जाएंगी।

योगी आदित्यनाथ ने कहा- जनता से बेहतर होगा संवाद

सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर कहा कि प्रदेश की 23 करोड़ जनता के प्रति जवाबदेह सरकार बनाने के लिए सीएम हेल्पलाइन 1076 शुरू की गई है। यह अवसर लोकतंत्र को आम जन की भावना के अनुरूप अमली जामा पहनाने का है। लोकतंत्र संवाद का माध्यम है। अपनी अनचाही व्यस्तता के कारण हम सब ने इसे बाधित किया है। बहुत बार सम्बंधित विभागों के समस्याओं का समाधान न करने के कारण आम जन में आक्रोश दिखता था। ग्राम स्वराज अभियान के दौरान पता चला कि जिन्हें सुविधा मिली उन्हें यह पता नहीं था कि कहां से मिली। जिन्हें सुविधा नहीं मिली उनकी असंतुष्टि स्वाभाविक थी। कुछ जगहों पर दोनों असंतुष्ट थे। मैंने जनता दर्शन शुरू किया तो रोज 4000-5000 लोग आते थे।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि साल भर में अलग अलग माध्यम से 22 लाख शिकायत आईं, जिनमें 20 लाख का समयबद्ध निस्तारण किया गया। मुझे बेहद कष्ट हुआ, क्योंकि इसके लिये लोगों को सैकड़ों किमी दूर मेरे पास आना पड़ा। उसमे आर्थिक बोझ पड़ा। पत्र, ईमेल के जरिये या दौरों के दौरान जिनकी समस्या का समाधान हुआ उन्होंने धन्यवाद किया। इतने के बाद भी हम कहीं न कहीं व्यवस्था को संवेदनशील बनाने में अब तक असफल रहे।

एक हफ्ते नहीं किया समस्या का निस्तारण तो नपेंगे अफसर

उन्होंने कहा कि सीएम हेल्पलाइन दो काम अवश्य करेगी। एक तो व्यवस्था को संवेदनशील बनाएगी, दूसरा इसमें मैं अधिकारियों का एसीआर जोड़ूंगा। जिससे प्रदर्शन न करने वालों की छुट्टी भी की जा सके। अगर हम यहां पर समस्या का समाधान नही कर सकते तो किस लिये बैठे हैं। यहां जो भी शिकायत आती है, समाधान के बाद उसका फीडबैक लिया जायेगा, अगर शिकायतकर्ता संतुष्ट नहीं है तो उच्चाधिकारियों को मामला रेफर किया जाएगा। समस्या का सही समाधान क्यों नहीं हुआ इसकी जवाबदेही तय होगी। यह भी देखना होगा कि गलत शिकायत के नाम पर इसका दुरुपयोग न हो। कोई व्यवस्था शुरू होती है तो आम आदमी को लाभ मिलने से पहले ही दुरुपयोग शुरू हो जाता है। गलत शिकायत करने वाले की भी जवाबदेही तय की जाएगी। 181 वीमेन हेल्पलाइन को भी इससे जोड़ा जाए।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »