CIA चीफ का स्‍पष्‍ट संदेश: आतंकवाद पर पाकिस्तान का दोहरा रवैया अब बर्दाश्त नहीं

वॉशिंगटन। अमेरिका नए साल में पाकिस्तान के खिलाफ काफी आक्रामक हो गया है। राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप समेत पूरे प्रशासन ने साफ कर दिया है कि अब आतंकवाद पर पाकिस्तान का दोहरा रवैया बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस बीच, CIA चीफ ने कहा है कि 2 अरब डॉलर की सुरक्षा मदद रोक कर अमेरिका ने पाकिस्तानियों को एक मौका दिया है कि अब आतंकियों को समर्थन देना स्वीकार नहीं किया जाएगा, आतंकियों के खिलाफ ऐक्शन लेना ही पड़ेगा।
CIA प्रमुख माइक पॉम्पियो ने कहा, ‘हमने पाकिस्तान को यह संदेश देने की कोशिश की है कि अब पहले के जैसा नहीं चलेगा इसीलिए मदद रोक कर उन्हें (पाक) एक मौका दिया गया। अगर वे खुद को बदल लेते हैं और समस्या के समाधान के लिए आगे आते हैं तो अमेरिका दोबारा पाकिस्तान के साथ एक पार्टनर के तौर पर संबंध बढ़ाने को तैयार है लेकिन अगर वह ऐसा नहीं करते हैं तो हम अमेरिका की सुरक्षा करने जा रहे हैं।’
गौरतलब है कि अमेरिकी कमांडोज ने खूंखार आतंकी ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान के एबटाबाद में ढूंढकर मार गिराया था। अमेरिका कई वर्षों से अफगानिस्तान की सीमा पर आतंकियों पर ड्रोन हमले करता रहा है। माना जा रहा है कि पाकिस्तान ने अगर खुद ऐक्शन नहीं किया तो अमेरिकी ड्रोन हमले बढ़ सकते हैं।
CIA चीफ के इस बयान से साफ है कि पाकिस्तान ने आतंकियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही नहीं की तो अब अमेरिका बड़ा कदम उठा सकता है। उन्होंने कहा कि पाक लगातार आतंकियों को छिपने के लिए पनाहगाह मुहैया कराता आ रहा है, जो अमेरिका को स्वीकार्य नहीं है। इससे पहले नए साल के पहले ही दिन अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा था कि पाकिस्तान को 15 वर्षों में 33 अरब डॉलर की मदद दी गई और बदले में केवल धोखा मिला।
माइक ने कहा कि ट्रंप ने पाक को साफ कहा है कि आतंकियों के सुरक्षित ठिकानों को तबाह करो, जो अमेरिका के लिए खतरा हैं। अफगान तालिबान और हक्कानी आतंकी नेटवर्क के खिलाफ कार्यवाही नहीं करने के कारण ही अमेरिका ने पाक को फंडिंग रोक दी है। CBS न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक CIA चीफ ने कहा, ‘हम देख रहे हैं कि पाकिस्तानी लगातार अपनी सरजमीं पर आतंकियों को शरण दे रहे हैं, जो अमेरिकी के लिए खतरा बनते हैं।’
CIA निदेशक ने कहा, ‘अमेरिकी राष्ट्रपति का पाक को संदेश साफ है कि आतंकियों के ठिकानों को खत्म करो।’ उन्होंने आगे कहा कि अगर पाकिस्तान आतंकियों के खिलाफ कड़े ऐक्शन करता है तो मदद बहाल की जा सकती है।
-एजेंसी