शाष्‍त्रीय संगीतकार Annapurna Devi का निधन

दिग्गज हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीतकार Annapurna Devi का मुंबई के एक अस्पताल में निधन हो गया। अन्नपूर्णा देवी 91 साल की थीं। जानकारी के मुताबिक आज सुबह 3.51 बजे उन्होंने अंतिम सांस लीं। पिछले काफी समय से उन्हें स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें थीं।

मुंबई स्थित Annapurna Devi फाउंडेशन के एक प्रवक्ता ने बताया कि वह पिछले कुछ वर्षों से उम्र संबंधी बीमारियों से जूझ रही थीं।अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि उन्हें तड़के तीन बजकर 51 मिनट पर मृत घोषित किया गया।

प्रवक्ता ने बताया कि उनका जन्म मध्य प्रदेश के मैहर शहर में उस्ताद ‘बाबा’ अलाउद्दीन ख़ान और मदीना बेगम के घर में हुआ था. प्यार से लोग उन्हें ‘मां’ बुलाते थे, वह चार भाई-बहनों में वह सबसे छोटी थीं।

प्रवक्ता ने बताया कि महान सरोद वादक उस्ताद अली अकबर ख़ान उनके भाई थे।

अन्नपूर्णा देवी अपने पिता की शिष्या थीं, पांच साल की छोटी उम्र से ही उन्होंने संगीत की शिक्षा आरंभ की और और वह सितार से लेकर सुरबहार तक में पारंगत हो गईं। अपने जीवन का ज़्यादातर हिस्सा उन्होंने एकांतवास में बिताया। उन्होंने अपना ज़्यादातर समय चुनिंदा छात्रों के समूह को प्रशिक्षित करने में व्यतीत किया।

पद्म भूषण से सम्मानित अन्नपूर्णा देवी का जन्म मध्य प्रदेश के मैहर में साल 1927 में हुआ था। उन्होंने संगीत की शुरुआती शिक्षा अपने पिता उस्ताद ‘बाबा’ अल्लाउद्दीन खान से ली। सेनिया-मैहर घराना स्थापित करने में अल्लाउद्दीन खान का बड़ा हाथ माना जाता है। अन्नपूर्णा देवी के प्रमुख शिष्यों में आशीष खान (सरोद), अमित भट्टाचार्य (सरोद), बहादुर खान (सरोद), बसंत काबरा (सरोद) और हरिप्रसाद चौरसिया (बांसुरी) हैं।

अन्नपूर्णा देवी ने मशहूर संगीतार पंडित रवि शंकर से शादी की थी। उनके बेटे का नाम शुभेंद्र शंकर है। रवि शंकर का निधन 2012 में हो गया। बाद में अन्नपूर्णा देवी ने रूशीकुमार पांड्या से दूसरी शादी की। जिन्होंने साल 2013 में दुनिया छोड़ दी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »