दावा: चीन की मिलिट्री लैब में बनाया गया कोरोना वायरस

वॉशिंगटन। चीन प्रशासित हॉन्ग कॉन्ग से भागकर अमेरिका पहुंची हॉन्ग कॉन्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ की सीनियर वायरोलॉजिस्ट डॉ. ली मेंग यान ने दावा किया है कि कोरोना वायरस को चीन की मिलिट्री लैब में बनाया गया था।
उन्होंने इस खतरनाक वायरस के चीन के वेट मार्केट से उत्पत्ति संबंधी धारणाओं को भी खारिज कर दिया। उनके दावों से चीन ने साफ इंकार किया है।
चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की लैब से निकला कोरोना
ताइवानी समाचार एजेंसी ल्यूड प्रेस के साथ एक लाइव-स्ट्रीम साक्षात्कार के दौरान डॉ. ली मेंग यान ने कहा कि जब यह महामारी फैलनी शुरू हुई तब मैंने स्पष्ट रूप से मूल्यांकन किया था कि यह वायरस चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की एक सैन्य प्रयोगशाला से आया था। इसको छिपाने के लिए वुहान वेट मार्केट की कहानी बुनी गई थी।
अधिकारियों ने रिपोर्ट मानने से किया इंकार
डॉ. ली मेंग यान ने दावा किया कि जब उन्होंने इसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी तब उन्होंने इसे गंभीरता से न लेते हुए अनदेखा कर दिया। उन्होंने दावा किया कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के लिए उनके रिपोर्ट को खारिज करना मुश्किल होगा।
चीनी शासन द्वारा गायब किए जाने का था डर
उन्होंने कहा कि हमें पहले से ही पता था कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के खिलाफ बोलने के बाद हम कभी भी गायब किए जा सकते हैं। ठीक ऐसा ही हॉन्ग कॉन्ग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों के साथ किया जा रहा है इसलिए मैंने सभी जानकारियों को इकठ्ठा करना शुरू कर दिया।
अप्रैल में हॉन्ग कॉन्ग छोड़ यूएस हुई थीं शिफ्ट
वायरोलॉजिस्ट डॉ ली मेंग यान अप्रैल में हॉन्ग कॉन्ग से अमेरिका आ गई थीं। उन्हें चीनी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत अपनी गिरफ्तारी का डर सता रहा था। उन्होंने कहा कि वे चीनी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए वहां के लोगों की मदद जारी रखेंगी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *