CJI ने अपनी छवि पर धब्‍बा लगाया: इंदिरा जयसिंह

CJI ने इंसाफ को बांटा, CJI का जेंडर जस्टिस और मानवाधिकार मामले में विपरीत रुख ठीक नहीं

नई दिल्‍ली। वरिष्‍ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा ‘इंसाफ को बांटा नहीं जा सकता, जेंडर जस्टिस और मानवाधिकार मामले में विपरीत रुख ठीक नहीं है’।

भीमा कोरेगांव मामले पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद वरिष्‍ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने CJI दीपक मिश्रा पर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि अपनी विदाई से पहले सीजेआई दीपक मिश्रा ने अपनी छवि पर धब्‍बा लगाया है। उन्‍होंने कहा कि इंसाफ को बांटा नहीं जा सकता। जेंडर जस्टिस और मानवाधिकार मामले में विपरीत रुख ठीक नहीं है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को भीमा कोरेगांव केस में सुनवाई करते हुए मामले में गिरफ्तार किए गए पांचों सामाजिक कार्यकर्ताओं की नजरबंदी को 4 सप्‍ताह के लिए बढ़ा दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए मामले की जांच विशेष जांच दल (एसआईटी) से कराने से इनकार कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने इस पर कहा कि आरोपी खुद जांच एजेंसी नहीं चुन सकते हैं। CJI दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई. चंद्रचूड़ की पीठ ने यह सुनवाई की।

मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर आरोपियों को राहत चाहिए तो उन्‍हें ट्रायल कोर्ट जाना होगा। न्‍यायालय ने मामले की एफआईआर रद्द करने से भी मना कर दिया। साथ ही पुणे पुलिस को मामले की जांच आगे बढ़ाने को कहा है। बता दें कि पांचों आरोपी वरवरा राव, अरुण फरेरा, वरनॉन गोंजाल्विस, सुधा भारद्वाज और गौतम नवलखा 29 अगस्‍त से अपने-अपने घरों में नजरबंद हैं।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »