Civil Enclave की फाइल पर्यावरण मंत्रालय पहुंची, क्‍लीयरैंस की उम्‍मीद

आगरा। पं. दीन दयाल उपाध्‍याय एयरपोर्ट (Civil Enclave) को खेरिया एयरपोर्ट स्‍टेशन के बीच से धनौली स्‍थित नये स्‍थान पर शिफ्ट करने संबंंधी प्रोजेक्‍ट की पर्यावरण मंत्रालय भारत सरकार में लंबित अर्जी (फाइल) को कलीयरैंस दिये जाने की औपचारिकतायें पूरी करने पर तेजी के साथ काम चल रहा है। यह जानकारी बृस्‍पतिवार को आगरा एयरपोर्ट की डायरेक्टर सुश्री कुसुम दास ने सिविल सोसाइटी ऑफ़ आगरा के प्रतिनिधि मंडल से कि मुलाकात के दौरान दी।

एयरपोर्ट अथॉर्टी के द्वारा मंत्रालय को बताया है कि आगरा में एयरपोर्ट है और उसका (Civil Enclave) का नई जगह पर स्‍थानांन्तरण होना है।

डायरैक्‍टर ने कहा कि एयरपोर्ट अथार्टी को आगरा के साथ कानपूर एयरपोर्ट के भी कागज पर्यावरण मंत्रालय को देने हैं। एक अन्‍य जानकारी में सुश्री दास ने कहा कि एयर डेक्कन ने आगरा रूट के लिये लाइसेंस लिया हुआ है किन्‍तु उसके द्वारा अब तक फ्लाइट शुरू नहीं की जा स की है।

इधर सिविल सोसायटी ने अपने स्‍तर से जुटाई जानकारी में एयरपोर्ट डायरैक्‍टर के समक्ष दावा किया कि एयर डेक्कन के पास पर्याप्‍त एयर क्राफ्ट नहीं है, आश्‍चर्य है कि इसके बावजूद एयरलाइंस के द्वारा किस अधार पर आगरा की एयरकनैक्‍टिविटी के लिये लाईसेस की दावेदारी की गयी।

सिविल सोसायटी के प्रतिनिधिमंडल ने दावा किया कि वायुसेना परिसर में सिविल एन्‍कलेव के होने से हवाई यात्रियों को होने वाली परंपरागत दिक्‍कते बदस्‍तूर हैं। अनेक यात्रियों को सैन्‍य परिसर की अनिवार्य औपचरिकताओं के कारण अर्जुन नगर गेट से एयर टम्रिनल बिल्‍डिंग तक पैदल तकआना जाना पड़ रहा है।

वायुसेना की व्‍यवस्‍था बिना एयरपोर्ट अथाॅर्टी के वैरीफाई एस्‍कार्ट के यात्रियों को टर्मिनल बिल्‍डिंग तक न तो आने देती है और नहीं जाने देती है।

प्रतिनिधि मंडल में डॉ ब्रजेश चंद्रा- पूर्व डायरेक्टर समाज विज्ञान संस्‍थान आगरा विवि; ओम सेठ- पूर्व क्रिकेटर; डॉ शिल्पा दीक्षित शर्मा – कॉर्पोरेट ट्रेनर और अनिल शर्मा- सचिव सिविल सोसाइटी ऑफ़ आगरा आदि शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »