Chitrakoot में कई रातों की बिजली कटौती से परेशान लोगों ने किया बवाल

चित्रकूट। Chitrakoot में लगातार दो दिन से रात रात भर बिजली कटौती से परेशान लोगों का आक्रोश फूट पड़ा जिसके बाद उन्‍होंने आधी रात को झांसी-मिर्जापुर नेशनल हाइवे व कर्वी-राजापुर मुख्य मार्ग में लोगों ने करीब दो घंटे जाम लगाया। सूचना पाकर पहुंचे Chitrakoot के प्रशासनिक अधिकारियों ने किसी तरह जाम खुलवा दिया। इसके बावजूद रात भर बिजली गुल रही। सुबह मोहल्ले के लोगों ने दोबारा धुस मैदान स्थित एसडीओ कार्यालय में धावा बोल दिया। कार्यालय में तालाबंदी कर लोग वहीं धरने पर बैठ गए। काफी देर तक लोगों ने जमकर हंगामा काटा।

Chitrakoot शहर में बिजली व्यवस्था पूरी तरह से चरमराई हुई है। आए दिन किसी न किसी मोहल्ले में आठ से दस घंटे तक बिजली कटौती की जा रही है। कोई न कोई फीडर बंद पड़ा रहता है। लगातार दो दिन से कोतवाली के पीछे द्वारिकापुरी व पांडेय कालोनी में बिजली आपूर्ति रात भर के लिए बाधित की जा रही है। दो दिन से की जा रही कटौती को लेकर मोहल्ले के लोगों का आक्रोश फूट पड़ा।

मंगलवार की रात करीब 11 बजे मोहल्ले के लोगों ने लामबंद होकर ओवरब्रिज के पास कर्वी-राजापुर मुख्य मार्ग में जाम लगा दिया। जबकि कुछ लोगों ने आकर झांसी-मिर्जापुर नेशनल हाइवे में ट्रैफिक चौराहे के पास आकर बैठ गए। दो जगह एक साथ जाम लगाए जाने से प्रशासन के हांथ-पांव फूल गए। सूचना पाकर आनन फानन में सीओ सिटी विजेन्द्र द्विवेदी, तहसीलदार कर्वी राजू वर्मा, कोतवाली प्रभारी अनिल सिंह भारी पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे।

अधिकारियों ने जाम लगाए लोगों को समझाकर जाम खुलवाने का प्रयास किया। लेकिन आक्रोशित लोग नहीं माने। करीब दो घंटे तक जाम लगा रहा। जाम के दौरान सैकड़ों की संख्या में भारी वाहन फंसे रहे। बाद में काफी प्रयास के बाद जाम खुलवाने में अधिकारी कामयाब हुए। भरोसा दिया गया कि अभी बिजली आपूर्ति बहाल हो जाएगी। फिर भी बिजली आपूर्ति रात भर ठप रही।

सुबह करीब नौ बजे तक आपूर्ति न बहाल होने पर लोगों ने दोबारा धुस मैदान स्थित पावर हाउस में धावा बोल दिया। यहां पर एसडीओ कार्यालय में लोगों ने ताला जड़ दिया। वहीं सामने धरना देकर बैठ गए। आरोप लगाया कि इतनी बेतहाशा गर्मी में विद्युत विभाग के अधिकारी मनमानी कटौती कर रहे है। लोगों ने बिजली विभाग के अलावा जिला प्रशासन व प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। काफी देर तक लोगों ने जमकर हंगामा काटा। बाद में बिजली अधिकारियों के आश्वासन पर लोग माने। धरना देने में कांग्रेस की जिला उपाध्यक्ष रंजना बरातीलाल पांडेय, रोहित, सदरूल, राजेश गर्ग, नीरज मौर्या, गणेश मौर्या, जियालाल सिंह पटेल, मनीशराम, सौरभ पयासी, लतीफ खां, छंगा, अवधेश सिंह, सुशील द्विवेदी आदि मौजूद रहे।

विद्युत अभियंता को भीड़ ने दौड़ाया
एसडीओ कार्यालय में तालाबंदी के बाद कर्मचारियों ने विभागीय अधिकारियों को तत्काल फोन से अवगत कराया। सूचना पाकर बिजली विभाग के एक अभियंता धुस मैदान पहुंचे। अभियंता को देखकर भीड़ और अधिक आक्रोशित हो गई। भीड़ ने अभियंता को जमकर खरीखोटी सुनाई। भीड़ के तेवर को देखते हुए अभियंता तुरंत मौके से भाग निकले। इसके बाद पुलिस फोर्स के साथ विभागीय अधिकारी पावर हाउस पहुंचे। अधिकारियों के समझाने पर लोग शांत हुए।

फोर्स के साथ बिजली अधिकारियों ने लिया जायजा
सड़क जाम व एसडीओ कार्यालय में तालाबंदी करने के बाद विद्युत विभाग के अधिकारियों में हडकंप मच गया। पुलिस फोर्स के साथ अधिशाषी अभियंता विद्युत अनिल दुबे अन्य कई अभियंताओं व कर्मचारियों के साथ कोतवाली के पीछे द्वारिकापुरी मोहल्ले पहुंचे। पूरे मोहल्ले में अधिकारियों ने भ्रमण कर बिजली व्यवस्था को देखा। कई जगह तार टूटे हुए मिले। जिनको अभी तक नहीं बदला गया था। अधिकारियों ने भरोसा दिलाया कि जर्जर तारों को बदलकर बिजली आपूर्ति सही कराई जाएगी।

निरंकुश हो गए बिजली विभाग के अधिकारी
कांग्रेस की जिला उपाध्यक्ष रंजना बरातीलाल पांडेय ने कहा कि बिजली विभाग के अधिकारी निरंकुश हो गए है। इन पर जिला प्रशासन का कोई अंकुश नहीं रह गया है। जिलाधिकारी की सख्ती का भी इन पर कोई असर नहीं है। यही वजह है कि शहर में पिछले करीब एक माह से लोगों को बिजली समस्या से जूझना पड़ रहा है। कहा कि अगर बिजली अधिकारी खुद में सुधार नहीं लाते तो अब उनकी भी नींद हराम कर दी जाएगी। अगर Chitrakoot शहर के लोग चैन की नींद नहीं सोएंगे तो अधिकारियों को भी नहीं सोने दिया जाएगा।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »