चीन की नसीहत: सभी देशों ख़ासकर US को तालिबान से संपर्क करना चाहिए

चीन ने कहा है कि सभी देशों ख़ासकर अमेरिका को तालिबान से संपर्क करना चाहिए और सक्रिय होकर उसे राह दिखानी चाहिए.
चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने इस बारे में अमेरिकी एंटनी ब्लिंकन से फ़ोन पर बात की.
चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार चीन ने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान की स्थिति पूरी तरह बदल गई है और ऐसे में ‘सभी पक्षों’ का तालिबान से संपर्क करना और उसे ‘सक्रिय रूप से राह दिखाना’ आवश्यक हो गया है.
चीन ने एक बार फिर कहा कि अमेरिकी सैनिकों की वापसी ने अफ़ग़ानिस्तान में आतंकवादी संगठनों को दोबारा उभरने का मौक़ा दे दिया है.
चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने इस बातचीत में अफ़ग़ानिस्तान में अमेरिकी जीत के दावे पर भी सवाल खड़े किए.
अफ़ग़ानिस्तान में युद्ध सफल नहीं रहा
वांग यी ने अमेरिकी विदेश मंत्री ब्लिंकन से कहा, “तथ्यों ने यह साबित कर दिया है कि अफ़ग़ानिस्तान में युद्ध यहाँ से आतंकवादी समूहों को हटाने के अपने लक्ष्य में कभी सफल नहीं हो पाया. जिस तरह जल्दी में अमेरिकी और नेटो सेनाओं को यहाँ से हटाने का फ़ैसला किया गया, उसने अफ़ग़ानिस्तान में कई आतंकवादी समूहों को फिर एकजुट होने का मौक़ा दे दिया है.”
वांग यी ने ज़ोर देकर कहा कि अमेरिका को आतंकवाद और हिंसा से लड़ने में अफ़गानिस्तान की मदद करने के लिए ठोस कदम उठाने चाहिए.
उन्होंने कहा, “अमेरिका को अफ़गानिस्तान की संप्रभुता और स्वतंत्रता का भी सम्मान करना चाहिए और आतंकवाद से लड़ने में दोहरा रवैया नहीं अपनाना चाहिए.”
चीनी विदेश मंत्री ने कहा कि अमेरिका को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ मिलकर अफ़ग़ानिस्तान को आर्थिक और मानवीय मदद मुहैया करानी चाहिए, जिसकी उसे तत्काल ज़रूरत है.
वांग यी ने कहा, “अमेरिका को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ मिलकर नए अफ़गानिस्तान में राजनीतिक ढाँचा विकसित करने, सरकारी संस्थाओं को शांतिपूर्ण तरीक़े से काम करने, सामाजिक सुरक्षा और स्थिरता लाने, मुद्रा में गिरावट और महँगाई को करने और पुनर्निर्माण की शांतिपूर्ण कोशिश के लिए जल्द से जल्द सहयोग करना चाहिए.”
तालिबान के प्रति चीन का नर्म रवैया
चीन, रूस और पाकिस्तान उन चंद देशों में शामिल हैं जिन्होंने तालिबान के क़ब्ज़े के बाद भी काबुल में अपने दूतावास खुले रखे हैं.
अफ़गानिस्तान में चीनी राजदूत वांग यु ने हाल ही में तालिबान के अधिकारियों के साथ पहली कूटनीतिक वार्ता भी की थी.
चीन ने अफ़गानिस्तान पर तालिबान के क़ब्ज़े के कुछ ही दिनों बाद सार्वजनिक रूप से कहा था कि वो तालिबान के साथ दोस्ताना संबंध विकसित करना चाहता है.
चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनियांग ने 16 अगस्त को एक आधिकारिक बयान में कहा था, “चीन तालिबान के साथ दोस्ताना और आपसी सहयोग के रिश्ते विकसित करने के लिए तैयार है. चीन अफ़ग़ानिस्तान में शांति और पुनर्निर्माण के लिए रचनात्मक भूमिका निभाना चाहता है.”
इतना ही नहीं, चीनी अधिकारियों ने अफ़गानिस्तान पर क़ब्ज़े से पहले ही तालिबान के एक प्रतिनिधिमंडल से बातचीत की थी, जिसका नेतृत्व तालिबान के वरिष्ठ नेता मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर ने किया था.
इस बातचीत में चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने तालिबान प्रतिनिधिमंडल से कहा था कि उसे ‘चीन विरोधी आतंकवादी संगठन’ ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ईटीआईएम) से संबंध तोड़ने होंगे.
ईटीआईएम चीन के वीगर मुसलमानों का एक संगठन है, जो शिनजियांग में एक स्वतंत्र देश के गठन की माँग करता है.
चीन तालिबान को लेकर काफ़ी पहले से ही नर्म रवैया अपनाता रहा है और अब उसने बाक़ी देशों से भी तालिबान का साथ देने की बात कही है.
तालिबान के क़रीब क्यों आना चाहता है चीन?
विदेश नीति के जानकारों का मानना है कि तालिबान को लेकर चीन का रवैया इसलिए भी नर्म है क्योंकि वो अपने यहाँ वीगर मुसलमानों के मसले पर चिंतित है.
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ चीन के शिनजियांग प्रांत में करीब 10 लाख वीगर मुसलमान है और शिनजियांग की सीमा अफ़गानिस्तान से भी मिलती है.
ऐसे में चीन को डर है कि वीगर मुसलमान और ईटीआएम के सदस्य अफ़गानिस्तान की ज़मीन का इस्तेमाल उसके ख़िलाफ़ गतिविधियों को अंजाम देने के लिए कर सकते हैं.
नतीजन, उसने पहले ही तालिबान को इस शर्त पर समर्थन देने की बात कही थी कि वो अफ़गानिस्तान के किसी हिस्से को उसके ख़िलाफ़ इस्तेमाल नहीं होने देगा.
चीन पर वीगर मुसलमानों के उत्पीड़न के आरोप लगते रहते हैं और इसकी वजह से अमेरिका समेत कई यूरोपीय देशों से उसके रिश्तों में तनाव जारी रहता है.
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *