चीन ने कहा, डोकलाम को भुला दोनों देश संबंधों को आगे ले जाने में जुटे

चीन ने कहा है कि डोकलाम विवाद के बाद दोनों ही देश अपने संबंधों को आगे बढ़ाने में जुटे हुए हैं। चीन के काउंसल जनरल मा झानवु ने कहा कि दोनों देश एक साथ काम करके अपने संबंधों को नए आयाम पर पहुंचा सकते हैं।
पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चीन के गठन की 68वीं वर्षगांठ के लिए आयोजित हुए एक कार्यक्रम में बोलते हुए झानवु ने ये बातें कहीं। चीन के काउंसल जनरल ने कहा, ‘भारत और चीन साथ काम कर रहे हैं। पीएम नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति शी चिनफिंग 5 सितंबर को मिले थे। दोनों के बीच रिश्ते को आगे बढ़ाने को लेकर बात हुई।’
यह पूछे जाने पर कि क्या डोकलाम विवाद पीछे छूट गया, चीनी काउंसल ने कहा, ‘हां हम उसे पीछे छोड़ चुके हैं और अपने द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने की दिशा में एक साथ काम कर रहे हैं।’ गौरतलब है कि 5 सितंबर को 9वें ब्रिक्स सम्मेलन में पीएम मोदी और शी चिनफिंग की मुलाकात हुई थी।
दोनों नेताओं ने इस बात पर सहमति जताई थी कि दोनों देशों को अपने सुरक्षाबलों के बीच सहयोग बढ़ाने को लेकर ज्यादा प्रयास करने की जरूरत है। ऐसा इसलिए ताकि डोकलाम जैसी घटनाएं भविष्य में न हों। 16 जून को डोकलाम में भारत और चीन के जवान आमने-सामने हो गए थे। चीन द्वारा बनाई जा रही सड़क को यथास्थिति के खिलाफ मानकर भारत ने सिक्किम सेक्टर के डोकलाम एरिया में अपने जवान तैनात कर दिए थे।
28 अगस्त को विदेश मंत्रालय ने घोषणा की था कि चीन और भारत दोनों ने विवाद सुलझा लिया है। दोनों देशों ने बाद में अपने-अपने जवानों का वापस बुला लिया था। इस तरह से डोकलाम मुद्दा दोनों देशों के बीच दो महीने से अधिक समय तक तनाव का कारण बना रहा था।
-एजेंसी