चीन ने विवादित दक्षिण चीन सागर में पहली बार बमवर्षक विमान तैनात, अमेरिका ने दी तीखी प्रतिक्रिया

बीजिंग। चीन ने विवादित दक्षिण चीन सागर में पहली बार बमवर्षक विमान तैनात कर दिए हैं जिससे इस इलाके में विवाद और बढ़ने के संकेत मिल रहे हैं।
चीन की वायु सेना ने बताया कि उनके एच -6 के बमवर्षक समेत फाइटर जेट्स ने हाल ही में दक्षिण चीन सागर में उड़ान भरने और उतरने का प्रशिक्षण लिया है।
पीपुल्स लीबरेशन एयर फोर्स ने बताया है कि इस प्रशिक्षण ने वायु सेना के पूरे क्षेत्र में पहुंचने, पूरी क्षमता और सटीक वक्त में मार करने की क्षमता को बढ़ा दिया है।
चीन के इस कदम पर अमेरिका ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की और कहा कि यह कदम इस क्षेत्र में तनाव और अस्थिरता बढ़ाएगा।
खबरों के मुताबिक पेंटागन के एक प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल क्रिस्टोफर लोगन ने इस अभ्यास को चीन की ओर से इस विवादित क्षेत्र का सैन्यकरण करने की कोशिश बताया है।
वॉशिंगटन स्थित एशिया समुद्री पारदर्शिता पहल (AMTI) के मुताबिक बम वर्षकों ने दक्षिण चीन सागर के वुडी द्वीप के ऊपर प्रशिक्षण किया था। एच -6 की मारक क्षमता (3,520 किलोमीटर) बताई जा रही है। जिसकी वजह से पूरा साउथ ईस्ट एशिया का इलाका उसकी जद में आ गया है। बता दें कि इस इलाके में चीन ने कुछ मानव निर्मित द्वीप भी बनाए हैं। जिन पर रनवे, रडार और मिसाइल स्टेशनों का निर्माण किया गया है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »