संस्कृति विवि के Divyang स्कूल में बच्चों ने दींं अद्भुत प्रस्तुतियां

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय के Divyang स्कूली बच्चों ने विश्वविद्यालय ऑडिटोरियम में एक कार्यक्रम के दौरान अपनी प्रस्तुतियों से सबको हतप्रभ कर दिया। नन्हे मुन्ने Divyang बच्चों ने जिस अंदाज में गणेश वंदना की, उसको देख कर लोगों की आखें भर आईं। सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बच्चों ने यह सिद्ध करने में कोई कसर नहीं छोड़ी कि वे किसी से कम नहीं, बस मौका मिलता रहे।

इस मौके पर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति सचिन गुप्ता ने कहा कि ये बच्चे किसी दया अथवा सहानुभूति के तलबगार नहीं, इनको तो बस अच्छे बरताव की जरूरत है। अक्सर देखने में आता है कि परिवारों में पड़ोसियों में इन बच्चों के साथ उपेक्षापूर्ण व्यवहार किया जाता है, जो नहीं होना चाहिए। इस स्कूल की स्थापना के पीछे हमारी यही मंशा कि ये बच्चे जीवन की मुख्य धारा में शामिल हों। इन्हें शिक्षा मिले, इनको वह सब करने का मौका मिले जो आम बच्चे करते हैं। यह सही है कि इनकी शिक्षा और अन्य गतिविधियों में पारंगत करने के लिए विशेष प्रशिक्षकों की आवश्यकता होती है। विवि ने इसकी व्यवस्था की है। यहां बच्चों को घर से लाना-ले जाना। उनको तैयार करना, भोजन देना सभी कुछ विवि प्रशासन स्वयं वहन करता है। जब में इनकी दुनिया में रहता हूं अपने सारे दुख-दर्द भूलकर उस शांति का अनुभव करता हूं जिसका बयान शब्दों में नहीं कर सकता।

कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन से हुआ। दीप प्रज्ज्वलन करने वालों में कुलाधिपति सचिन गुप्ता के अलावा विशेष कार्याधिकारी श्रीमती मीनाक्षी शर्मा, श्रीमती स्नेहलता भी थीं। इससे पूर्व दिव्यांग विद्यालय के शिक्षक संतोष मौर्य ने विवि में चलाए जा रहे दिव्यांग स्कूल की गतिविधियों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने बच्चों की प्रगति और प्रतिभा का भी परिचय दिया।

कार्यक्रम के अंत में कुलाधिपति सचिन गुप्ता, विवि के डीन कल्याण कुमार द्वारा बच्चों को पुरस्कार वितरित किए गए।
-Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *