छत्तीसगढ़: 15 साल बाद कांग्रेस की सत्ता में वापसी, सीएम की दौड़ में चार नाम

रायपुर। छत्तीसगढ़ में 15 साल बाद सत्ता में कांग्रेस की वापसी होने जा रही है। अभी तक के जो ट्रेंड हैं उसके मुताबिक कांग्रेस 90 में से करीब 68 सीटों पर आगे चल रही है और बीजेपी महज 17 सीटों पर सिमटती दिख रही है। हालांकि, अभी तक एक भी सीट के परिणाम नहीं आए हैं लेकिन कांग्रेस की बढ़त को देखते हुए यह तय हो चुका है कि 2003 के बाद एक बार फिर वह यहां सत्तारूढ़ होने जा रही है। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा, सवाल सबके मन में तैरने लगे हैं।
बीजेपी की ओर से निवर्तमान मुख्यमंत्री रमन सिंह ही मुख्यमंत्री का चेहरा थे लेकिन कांग्रेस बिना चेहरे के मैदान में थी। ऐसे में कांग्रेस की ओर से चार प्रमुख नाम छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के तौर पर सामने आ रहे हैं।
त्रिभुनेश्वर शरण सिंहदेव
छत्तीसगढ़ में ‘टीएस बाबा’ के नाम से मशहूर त्रिभुनेश्वर शरण सिंहदेव मौजूदा विधानसभा में विपक्ष के नेता हैं। छत्तीसगढ़ के सबसे अमीर उम्मीदवार के रूप में ख्याति हासिल करने वाले टीएस सिंहदेव सरगुजा के राज परिवार से संबंध रखते हैं और अंबिकापुर सीट से चुनाव मैदान में हैं। 2013 के छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में टीएस सिंहदेव 13 हजार वोट से बीजेपी के अनुराग सिंहदेव से जीतने में सफल रहे थे, जबकि 2008 में उनकी जीत का यह आंकड़ा महज एक हजार था।
चरण दास महंत
कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और वरिष्ठ नेता चरणदास महंत सक्ती विधानसभा सीट से चुनावी मैदान में हैं। चरणदास कांग्रेस को भी यहां मुख्यमंत्री पद का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। महंत के खिलाफ बीजेपी के उम्मीदवार मेघाराम साहू मैदान में हैं। 2008 में ये सीट कांग्रेस के पास थी तो 2013 में फिर से बीजेपी ने इस पर कब्जा कर लिया था।
भूपेश बघेल
छत्तीसगढ़ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और सूबे में कद्दावर नेता के रूप में पहचान है। विवादों से भी बघेल का गहरा नाता रहा है। पिछले वर्ष सेक्स सीडी कांड के बाद बघेल अचानक विवादों में आए थे और जेल भी जाना पड़ा था। फिलहाल कांग्रेस की वापसी में बघेल का भी बड़ा योगदान है और ऐसे में सीएम रेस में वह भी आगे दिख रहे हैं। बघेल पाटन सीट से मौजूदा विधायक हैं। वह यहां से चुनावी मैदान में इस बार भी आगे चल रहे हैं। उनके खिलाफ बीजेपी से मोतीलाल साहू हैं।
ताम्रध्‍वज साहू
छत्तीसगढ़ से कांग्रेस के इकलौते सांसद और पार्टी के ओबीसी चेहरा हैं। कांग्रेस में आपसी गुटबाजी और खींचातानी के बाद ऐन मौके पर कांग्रेस हाइकमान को चुनावी मैदान में उतारना पड़ा था। हालांकि साहू को उतारने के पीछे सीएम के लिए एक मजबूत दावेदार को उतारना भी माना गया था। ऐसे में साहू भी इस रेस में बने हुए हैं। फिलहाल दुर्ग ग्रामीण सीट से ताम्रध्वज साहू आगे चल रहे हैं।
छत्तीसगढ़ कांग्रेस प्रेजिडेंट भूपेश बघेल रायपुर स्थित कांग्रेस दफ्तर पहुंचे। उन्होंने कहा, ‘छत्तीसगढ़ के लोगों ने इस लड़ाई को अपने हाथों में ले लिया। हम राहुल गांधीजी के आभारी हैं। हम लोगों के लिए लड़े। हमें उम्मीद से ज्यादा सीटें मिली हैं। बाकी आलाकमान तय करेगा कि सीएम कौन होगा।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »