चैंपियंस ट्रॉफी: भारतीय हॉकी टीम ने पाकिस्तान को 4-0 से हराया

ब्रेडा। भारतीय हॉकी टीम ने चैंपियंस ट्रॉफी में अपना पहला मुकाबला जीतते हुए सफर का जोरदार आगाज किया है। उसने चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 4-0 से परास्त किया। विजेता भारत के लिए रमनदीप सिंह, 17 साल के दिलप्रीत सिंह, मंदीप सिंह और ललित उपाध्याय ने एक-एक गोल दागे। पहले हाफ में सिर्फ एक गोल लगा जबकि बाकी के 3 गोल दूसरे हाफ में लगे। मैच में आखिरी समय में भारतीय टीम ने आक्रामक खेल दिखाया और 6 मिनट में 3 गोल दागकर 3 बार की चैंपियन पाकिस्तानी टीम को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया।
रमनदीप का शानदार गोल
मुकाबले के पहले क्वॉर्टर में दोनों टीमों की ओर से कोई गोल नहीं लग सका। दूसरा हाफ भी गोल रहित खत्म होता दिख रहा था कि रमनदीप सिंह ने भारतीय टीम के लिए पहला गोल दाग दिया। उन्होंने यह गोल हाफ टाइम से कुछ देर पहले 25वें मिनट में किया। सिमरनजीत से मिले सटीक पास को रमनदीप ने हिट लगाते हुए पोस्ट की बाईं ओर से गेंद जाल में उलझा दी। इसके साथ ही भारतीय टीम ने पाकिस्तान के खिलाफ 1-0 की बढ़त ले ली। हाफ टाइम तक का स्कोर 0-1 से भारत के पक्ष में रहा।
अंतिम के 6 मिनट में लगे 3 गोल
दूसरे हाफ की शुरुआत में छठे रैंक की भारतीय टीम को 13वें रैंक की पाकिस्तान ने टक्कर देने की कोशिश की लेकिन उसे गोल करने में कामयाबी नहीं मिली। भारत के लिए इस हाफ में एक और गोल दिलप्रीत सिंह ने किया। इस 17 साल के युवा खिलाड़ी ने 54वें मिनट में पोस्ट के दाईं ओर से करारी हिट लगा दिया, जो पाकिस्तानी गोलकीपर को छकाते हुए पोस्ट में समाई। इसके साथ ही भारत की बढ़त 2-0 हो गई। मैच खत्म होता इससे पहले ही भारत के लिए तीसरा गोल मंदीप ने 57वें मिनट में किया जबकि ललित उपाध्याय ने 59वें मिनट गोल दागकर भारत की बढ़त 4-0 कर दी।
चैंपियंस ट्रोफी में खेलती हैं ये टीमें
चैंपियंस ट्रोफी में दुनिया की शीर्ष छह टीमें खेलती हैं। इस बार ओलिंपिक चैंपियन अर्जेंटीना, दुनिया की नंबर एक टीम ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम, मेजबान नीदरलैंड्स, भारत और पाकिस्तान टूर्नमेंट का हिस्सा हैं। भारत के अगले मुकाबले अर्जेंटीना (24 जून), ऑस्ट्रेलिया (27जून), बेल्जियम (28 जून) और नीदरलैंड (30 जून) से होंगे।
3 बार का चैंपियन है पाक
पाकिस्तान 3 बार (1978, 1980 और 1994) चैंपियंस ट्रोफी जीत चुका है, लेकिन हर बार अपनी धरती पर ही खिताब जीता।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »