चमोली आपदा: लापता लोगों को मृत घोषित करने की प्रक्रिया शुरू

देहरादून। उत्तराखंड के चमोली में 7 फरवरी को विनाशकारी बाढ़ आई थी। इस घटना को एक पखवाड़े से अधिक समय बीत गया। अब राज्य सरकार ने आपदा के बाद लापता हुए 130 से अधिक लोगों को मृत घोषित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इस संबंध में एक अधिसूचना जारी की गई है।
अधिकारियों ने बताया कि आमतौर पर जो लोग आपदा में लापता हो जाते हैं, उनका अगर सात साल तक कुछ पता नहीं चलता तब उन्हें मृत घोषित किया जाता है लेकिन चमोली आपदा के मामले में बर्थ एंड डेथ्स एक्ट 1969 के पंजीकरण के प्रावधानों को लागू करने का निर्णय लिया गया है। इस एक्ट के तहत आपदा में लापता लोगों को सात साल के पहले मृत घोषित किया जा सकता है।
तेज हुई मुआवजे की प्रक्रिया
अधिकारियों ने कहा कि यह कदम प्रभावित परिवारों को मुआवजा देने की प्रक्रिया को तेज करने के लिए शुरू की गई है। राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों के लिए 4 लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है जबकि केंद्र द्वारा 2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि की घोषणा की गई है। 2013 केदारनाथ त्रासदी के मामले में जो लोग लापता थे, उन्हें सात साल की अवधि से पहले ही मृत घोषित कर दिया गया था।
तीन श्रेणियों में जारी होंगे मृत्यु प्रमाणपत्र
राज्य सरकार की अधिसूचना को केंद्रीय गृह मंत्रालय से मंजूरी के बाद प्रदेश के स्वास्थ्य सचिव ने जारी की। लापता व्यक्तियों के लिए मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के आवेदनों को निपटाने के लिए जिला स्तर पर नामित अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। अधिसूचना में कहा गया है, ‘मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के उद्देश्य से लापता व्यक्तियों को तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है- पहले वे जो आपदा प्रभावित क्षेत्रों या आसपास के क्षेत्रों के निवासी थे। दूसरे वे जो उत्तराखंड के अन्य जिलों के निवासी थे लेकिन मौजूद थे 7 फरवरी को आपदा प्रभावित क्षेत्रों में और अंतिम श्रेणी अन्य राज्यों से संबंधित हैं जो उसी दिन बाढ़ ग्रसित इलाकों में मौजूद थे।’
सभी जिले में भेजे गए आदेश
सूत्रों ने कहा कि राज्य के स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने सभी जिला मजिस्ट्रेटों को इस प्रक्रिया के बारे में लिखा है। उन्होंने लिखा है कि आपदा में लापता हुए व्यक्तियों के परिवार के सदस्यों और रिश्तेदारों को मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करते समय इस प्रक्रिया का पालन किया जाना चाहिए।
136 लोग लापता
सोमवार तक खोज और बचाव दल ने क्षेत्र से 68 शव बरामद किए थे जबकि 136 के अभी भी लापता होने की सूचना है। कुल बरामद शवों में से 14 तपोवन स्थित एनटीसी जलविद्युत परियोजना स्थल पर सुरंग से मिले थे, बाकी अन्य नदी के ऊपर और नीचे के इलाकों से बरामद किए गए थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *