नेपोटिज्म से ज्यादा खतरनाक है ‘चमचागीरी’: सुचित्रा कृष्णमूर्ति

मुंबई। बॉलीवुड में लगातार चल रही नेपोटिज्म के बहस के बीच सुचित्रा कृष्णमूर्ति ने कहा है कि बॉलीवुड में नेपोटिज्म से भी ज्यादा खतरनाक चमचागीरी है और इसके लिए उन्होंने नेहा धूपिया का उदाहरण दिया है।
बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से लगातार फिल्म इंडस्ट्री में नेपोटिजम और इनसाइडर-आउटसाइडर की बहस चल रही है। इस मुद्दे पर सभी फिल्ममेकर्स और एक्टर्स भी अपने विचार रख रहे हैं। हालांकि कुछ लोग इस मामले में बेहद तीखे बयान भी दे रहे हैं। ऐसा ही एक बयान एक्ट्रेस सुचित्रा कृष्णमूर्ति का भी सामने आया है। सुचित्रा कृष्णमूर्ति ने कहा है कि बॉलीवुड में नेपोटिज्म से भी खतरनाक इस समय ‘चमचागीरी’ है।
सुचित्रा ने अपने ट्वीट में इस बारे में लिखते हुए नेहा धूपिया पर भी तीखा कटाक्ष किया। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘बॉलीवुड में नेपोटिज्म ही नहीं बल्कि चमचागीरी के खिलाफ भी जोरदार आवाज उठाई जानी चाहिए। मेरे कहने का मतलब है कि आखिर अचानक नेहा धूपिया को सारे टॉक शोज कैसे मिल गए सिवाय इसके कि वह करण जौहर की नई खास दोस्त हैं और 2002 में फेमिना मिस इंडिया रह चुकी हैं। बॉलीवुड में न तो उनके कोई रिश्तेदार हैं और न ही वह स्टार किड हैं।’
वैसे बता दें कि यह पहली बार है जबकि नेपोटिज्म और इनसाइडर-आउटसाइडर की बहस के बीच किसी ने नेहा धूपिया पर इस तरह सीधे हमला बोला हो। इससे पहले नेपोटिज्म की बहस में करण जौहर, आदित्य चोपड़ा, महेश भट्ट, सलमान खान, आलिया भट्ट और सोनम कपूर जैसे सितारों की सोशल मीडिया पर जमकर खिंचाई की गई थी। करण जौहर और सलमान खान जैसे सितारों पर कंगना रनौत भी नेपोटिज्म को बढ़ावा देने का आरोप लगाती रही हैं।
बता दें कि इससे पहले भी बॉलिवुड में कई एक्टर्स ऐसा दावा कर चुके हैं कि उनके हाथों से कई बार फिल्में केवल इसलिए छीन ली गईं क्योंकि उनमें किसी स्टारकिड को कास्ट किया जाना था। ऐसा भी दावा किया जाता है कि सुशांत सिंह राजपूत भी बॉलीवुड में इसी खेमेबाजी के शिकार हुए और उनके हाथों से भी कुछ बड़ी फिल्में निकल गई थीं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *