बिहार में चमकी fever: मना करने के बाद भी नहीं रुक रहे अस्‍पताल में वीआईपी के दौरे

मुज़फ्फरपुर। बिहार में चमकी fever से मरने वाले बच्चों की संख्या गुरुवार को 161 तक पहुंच गई। यहां के सबसे बड़े अस्पताल श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज (एसकेएमसीएच) का प्रशासन लगातार अपील कर रहा है कि नेता अस्पताल का दौरा ना करें, क्योंकि इससे इलाज में दिक्कत आती है। इसके बावजूद गुरुवार को लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव 30 लोगों की टीम के साथ अस्पताल में आए। शरद ने डॉक्टरों से बातचीत की और आईसीयू का निरीक्षण किया।

शरद यादव के निकलने के थोड़ी देर बाद भोजपुरी सिंगर और एक्टर खेसारी लाल यादव भी अस्पताल पहुंचे। उन्हें देखने के लिए वहां अच्छी-खासी भीड़ जुट गई। खेसारी को देखने के लिए प्रशंसकों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया। भीड़ को काबू करने के लिए प्रशासन को मशक्कत करनी पड़ी।

18 दिन बाद नीतीश ने किया था हॉस्पिटल का दौरा
मस्तिष्क fever से बच्चों की मौत शुरू होने के 18 दिन बाद मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुजफ्फरपुर पहुंचे थे। यहां उन्होंने हॉस्पिटल का दौरा किया और डॉक्टरों से इस बीमारी के वायरस का पता लगाने के लिए कहा। इससे पहले रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन मुजफ्फरपुर पहुंचे थे।

प्रशासन की अपील- लोगों को जागरूक करें नेता
अस्पताल के सुपरिंटेंडेंट डॉ. सुनील कुमार शाही ने बताया कि मस्तिष्क ज्वर से पीड़ित 150 बच्चे अभी एडमिट हैं। बीमार बच्चे लगातार हॉस्पिटल पहुंच रहे हैं। डॉक्टर इलाज में लगे हैं, लेकिन नेताओं के दौरों के चलते परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शाही ने बुधवार को अपील की थी कि नेता अस्पताल आने की बजाय उन इलाकों में जाएं, जहां बच्चे बीमार हो रहे हैं। वे वहां जागरूकता फैलाएं।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »