चीन को चुनौती, ताइवान ने तैनात किए सबसे उन्नत एफ-16 लड़ाकू विमान

ताइवान की सीमा के पास लगातार फाइटर जेट भेज रहे चीन को अब करारा जवाब मिलेगा। ताइवान ने अपनी वायुसेना में एफ-16 लड़ाकू विमान के सबसे उन्नत संस्करण तैनात किए हैं। स्व-शासित द्वीप ने चीन से बढ़ते खतरों को देखते हुए अपनी रक्षा क्षमताएं बढ़ा दी हैं। ताइवान की राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने गुरुवार को चियाली में वायुसेना अड्डे पर 64 उन्नत एफ-16वी लड़ाकू विमानों को बेड़े में शामिल किया।
यह विमान ताइवान के कुल 141 एफ-16 ए/बी विमानों का हिस्सा है जो इस विमान का पुराना मॉडल है। त्साई ने बताया कि उन्नत विमान अमेरिका के रक्षा उद्योग के साथ ताइवान के सहयोग की ताकत को दिखाता है। यह ऐसे समय में वायुसेना में शामिल किए गए हैं जब इस द्वीप का दर्जा अमेरिका-चीन संबंधों में तनाव की मुख्य वजह है। चीन ने ताइवान के बफर जोन में लड़ाकू विमान भेजकर तनाव बढ़ा दिया है।
चीन ने ताइवान पर अपने दावे की आवाज बुलंद कर दी है और राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने इस सप्ताह एक वर्चुअल शिखर सम्मेलन में राष्ट्रपति जो बाइडन से कहा कि इस द्वीप पर चीन के दावे को दी जानी वाली चुनौतियों का मतलब आग से खेलना होगा। ताइवान के खिलाफ ‘संभावित’ हमले की तैयारी के रूप में चीनी सेना अपने हथियारों और टैंकों को तैनात कर रही है। चीनी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे कुछ वीडियो इस तरह के दावे कर रहे हैं।
ये वीडियो सामने आने के बाद ‘तीसरे विश्व युद्ध’ की आशंकाएं बढ़ गई हैं। हांगकांग समर्थक लोकतंत्र कार्यकर्ता एलीन चांग के अनुसार ये वीडियो चीन भर में ‘वीबो’ पर जमकर शेयर किए जा रहे हैं। वीबो चीन का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है जिस पर सरकार का नियंत्रण है। इसे ट्विटर के विकल्प के रूप में देखा जाता है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *