राम मंदिर के लिए अयोध्‍या में उल्‍लास: भूमि पूजन के लिए अनुष्‍ठान शुरू, सीएम योगी पहुंचे

अयोध्‍या। राम मंदिर भूमि पूजन के लिए अयोध्या में उल्लास है। आज से अनुष्ठान शुरू हो गए हैं। इस बीच सीएम योगी आदित्यनाथ भूमि पूजन की तैयारियों का जायजा लेने अयोध्या पहुंचे हैं।
अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के लिए आज गौरी-गणेश पूजा से तीन दिन का अनुष्ठान शुरू हो गया है। मंदिर के निर्माण में अयोध्या में रामजन्म जैसा उल्लास है। इसी के साथ भूमि पूजन का गवाह बनने के लिए आज से अयोध्या में मेहमानों का आगमन भी शुरू हो जाएगा। सीएम योगी आदित्यनाथ भी तैयारियों का जायजा लेने अयोध्या पहुंचे हैं। भूमि पूजन के लिए सारी तैयारियां लगभग पूरी हो गई हैं और अब सभी को 5 अगस्त का बेसब्री से इंतजार है। अब तक के कार्यक्रम के मुताबिक पीएम मोदी अयोध्या में भूमि पूजन के साथ हनुमानगढ़ी के भी दर्शन करेंगे।
जायजा लेने अयोध्या पहुंचे सीएम योगी
अंतिम दौर की तैयारियों का जायजा लेने के लिए यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ अयोध्या पहुंच गए हैं। इससे पहले सीएम योगी रविवार को ही अयोध्या जाने वाले थे लेकिन यूपी सरकार की कैबिनेट मंत्री कमल रानी वरुण के निधन की वजह से उनका दौरा रद्द हो गया था।
राम से पहले हनुमान के दर्शन करेंगे पीएम मोदी
5 अगस्त को अयोध्या पहुंचने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सबसे पहले हनुमानगढ़ी में दर्शन-पूजन करेंगे। इसके लिए मंदिर में सैनिटाइजेशन का काम चल रहा है।

हनुमानगढ़ी के मुख्य पुजारी महंत राजू दास
हनुमानगढ़ी के मुख्य पुजारी महंत राजू दास

ने बताया कि पीएम मोदी पहले हनुमानगढ़ी में दर्शन करेंगे। यहां उनके लिए विशेष पूजा की व्यवस्था रहेगी। महंत राजू दास ने कहा कि पीएम के शेड्यूल में हनुमानगढ़ी में 7 मिनट का समय दिया गया है। इसमें प्रधानमंत्री का आना-जाना शामिल है, प्रधानमंत्री को पूजन में करीब 3 मिनट का समय लगेगा।
सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी 5 अगस्त को 11- 11:15 बजे अयोध्या पहुंचेंगे।
अयोध्या में ‘गौरी गणेश पूजा’ के साथ रस्में शुरू
भूमिपूजन से पहले की रस्में सोमवार को ‘गौरी गणेश’ पूजा के साथ शुरू हुईं। सबसे पहले हिंदू धर्म में सभी प्रमुख अवसरों के लिए अनिवार्य माने जाने वाले गणेश पूजा हुई। तीन दिवसीय अनुष्ठानों का समापन बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किए जाने वाले ‘भूमिपूजन’ के साथ होगा। पूजा सुबह 8 बजे शुरू हुई, जिसमें 11 पुजारियों ने मंत्रों का जाप किया जबकि विभिन्न अन्य मंदिरों में ‘रामायण पाठ’ आयोजित किए गए।
राम-सीता की कुलदेवी की हुई पूजा
गौरी-गणेश पूजा के बाद माता सीता की कुलदेवी छोटी देवकाली और भगवान राम की कुलदेवी बड़ी देवकाली की आराधना की गई। अयोध्या में स्थित दोनों धर्म स्थलों पर ट्रस्ट के सदस्य राजा विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र ने यजमान की भूमिका में पूजन शुरू कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। पूजन के साथ राम जन्मभूमि परिसर में भी विभिन्न धार्मिक आयोजनों की शुरुआत हो गई है।
अयोध्या-फैजाबाद में लगेंगे 3000 लाउडस्पीकर
प्रयागराज में आशा नाम की एक फर्म भूमि पूजन से पहले अयोध्या में निशुल्क लाउडस्पीकर लगाएगी। कंपनी के डायरेक्टर प्रवीण मालवीय कहते हैं, ‘करीब 3000 लाउडस्पीकर अयोध्या और फैजाबाद में लगाए जाएंगे। हम इसके लिए एक भी रुपये शुल्क नहीं लेंगे।’
आज सफेद, 5 को हरे रंग के वस्त्र पहनेंगे रामलला
पूजन कार्यक्रम के लिए रामलला की पोशाक तैयार हो गई हैं। भगवान सोमवार को सफेद, मंगलवार को लाल और बुधवार को हरी पोशाक पहनेंगे। भूमि पूजन पर भगवान राम हरी रंग की पोशाक पहनेंगे। भगवान राम, उनके भाई-लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न 5 अगस्त को राम मंदिर के ‘भूमिपूजन’ के अवसर पर रत्नजड़ित पोशाक पहनेंगे।
2000 जगहों से पहुंची मंदिर निर्माण के लिए मिट्टी
राम मंदिर निर्माण में देश के हर कोने की मिट्टी और हर कोने का जल इस्तेमाल होगा। अब तक देश की 100 पवित्र नदियों के करीब 1500 स्थानों से जल अयोध्या पहुंच चुका है। इसमें गंगा, यमुना, नर्मदा, गोदावरी, कृष्णा, कावेरी, सिंधु, ब्रह्मपुत्र, झेलम, सतलुज, रावी, चिनाब, व्यास सहित कई नदियां हैं साथ ही कई पवित्र कुंडों का जल भी अयोध्या लाया गया है। इसके अलावा करीब 2000 पवित्र स्थानों की मिट्टी अयोध्या पहुंची है।
हर घर में भेजा जाएगा भूमि पूजन का प्रसाद
अयोध्या के प्रत्येक परिवार तक राममंदिर भूमिपूजन कार्यक्रम के प्रसाद को पहुंचाने की तैयारी हो रही है। इसकी व्यवस्था की जिम्मेदारी बीजेपी सांसद लल्लू सिंह ने ली है। इसके लिए साढ़े तीन लाख लड्डू के पैकेट के शहर के विभिन्न स्थानों पर तैयार किए जा रहे हैं।
मूर्तियों से दिखेगा भगवान राम के जीव का सफर
रामजन्मभूमि परिसर में झांकी तैयार की जाएगी। इनमें भगवान राम के बचपन से लेकर राज्यभिषेक तक की यात्रा से जुड़ी मूर्तियां होंगी। ये मूर्तियां राम मंदिर के प्रांगण में लगाई जाएंगी। इन्हें अयोध्या में असम के कलाकार रंजीत मंडल बना रहे हैं। विश्व हिंदू परिषद के स्वर्गीय नेता अशोक सिंघल रंजीत मंडल को यहां लेकर आए तब से रंजीत अपने परिवार के साथ यहीं बस गए।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *