GL बजाज ने Innovation Day के रुप में मना डा. कलाम का जन्मदिन

जीएल बजाज ने डा. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के जन्म दिवस  Innovation Day पर छवि पर फूलमाला चढाकर किया नमन
आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि मिसाइल मैन डा. एपीजे अब्दुल कलाम की ईमानदारी, निष्ठा और योग्यता से लें सीख

मथुरा। डा. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय, उ.प्र. लखनऊ के निर्देश पर जीएल बजाज ने 15 अक्टूबर को डा. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के जन्म दिवस को Innovation Day के रूप में मनाया। संस्थान के निदेशक डा. एल.के. त्यागी व अन्य सभी विभागाध्यक्षों ने डा. कलाम की प्रतिमा पर फूल माला चढाकर दीप प्रज्ज्वलित किया। निदेशक और विभागाध्यक्षों ने डा. कलाम के विचारांे को विद्यार्थियों के समक्ष अपने विचार के रुप में प्रस्तुत किया। उन्होंने विद्यार्थियों से डा. कलाम के आदर्शाें को अपने जीवन में उतारने को कहा। विद्यार्थियों ने भी उनके जन्मदिन को एक प्रेरणा की तरह लेने का संकल्प लिया।

जीएल बजाज के निदेशक डा. एलके त्यागी ने कहा कि सभी छात्र-छात्रा डा. कलाम के जन्म दिन पर उनके जीवन की अच्छाइयों को अपनाएं। इसके बाद तृतीय वर्ष के कम्प्यूटर इंजीनियरिंग विभाग के छात्र विरेन्द्र कुमार, द्वितीय वर्ष के छात्र आरजू आहूजा व प्रथम वर्ष बीआर्क के छात्र उत्कर्ष वाष्र्णेय ने डा. कलाम के जीवन संघर्ष व उनकी देश को आत्मनिर्भर बनाने में किए प्रयासों को बताया। छात्र-

छात्राआंे ने भारत रत्न उपाधि द्वारा सम्मानित कार्यों का विस्तार पूर्वक व्याख्यान प्रस्तुत किया। द्वितीय वर्ष कम्प्यूटर इंजीनियरिंग की छात्रा कल्पना चैधरी व प्रिया अरोरा ने टैक्नीकल क्वीज आयोजन किया । इसके माध्यम से उपस्थित छात्र, छात्राओं फैकेल्टी मेम्बर्स के दिलोदिमाग को झकजोर कर रख दिया। छात्र-छात्राओं द्वारा सुनाए गए कार्यक्रम के दौरान डा. अब्दुल कलाम के आदर्श वाक्यों को काफी पसंद किया। कार्यक्रम का संचालन चतुर्थ वर्ष मैकेनिकल इंजीनियरिंग के छात्र प्रथमेश प्रतीक व द्वितीय वर्ष के कम्प्यूटर इंजीनियरिंग के छात्र सूरत ने किया। कार्यक्रम का संयोजन प्रो. विमल गुप्ता विभागाध्यक्ष सिविल इंजीनियरिंग विभाग ने किया।

आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि मिसाइल मैन के नाम से प्रसिद्वि भूतपूर्व राष्ट्रपति डा. एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन बडा ही संघर्षपूर्ण रहा है। उनकी योग्यता का पूरा देश कायल रहा है। हर कोई उनकी ईमानदारी, निष्ठा और योग्यता की सीख उनके जीवन से लेना चाहता है। सभी छात्र-छात्राओं को भी न केवल उनसे सीख लेनी चाहिए, बल्कि उन गुणों को अपने जीवन में भी उतारें। इससे आप लोग अपने माता-पिता और राष्ट्र का नाम उनकी तरह से रोशन कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »