सीबीएसई का Artificial Intelligence कोर्स अगले सत्र से

8, 9 व 10वीं कक्षा के लिए वैकल्पिक विषय के रूप में एक Artificial Intelligence (एआई) पाठ्यक्रम शुरू करेगा सीबीएसई

नई दिल्‍ली। कौशल विषय के रूप में सीबीएसई अगले शैक्षणिक सत्र से कक्षा 8वीं, 9वीं और 10वीं में एक वैकल्पिक विषय के रूप में एक Artificial Intelligence (एआई) पाठ्यक्रम शुरू करेगा। इस विषय को एक कौशल विषय के रूप में पेश किया जाएगा।हाल ही में बोर्ड द्वारा आयोजित बैठक में निर्णय लिया गया।

बोर्ड के एक सदस्य ने कहा, “नए विषय के लिए सिलेबस को तीनों वर्गों के लिए प्रारूपित किया जाएगा। यदि आवश्यक हो, तो बोर्ड अगले शैक्षणिक सत्र से नए विषय के शिक्षण-अधिगम के लिए स्कूलों के क्षमता निर्माण में भी मदद करेगा। ”

इसके अलावा, सीबीएसई ने नए शैक्षिक सत्र से गणित में कक्षा 10वीं के छात्रों की क्षमता की जांच करने के लिए प्रश्नपत्रों के दो सेट पेश करने का भी निर्णय लिया है। दो प्रश्न पत्र एक आसान और एक मानक रूप में होंगे। जो छात्र उच्च अध्ययन में गणित नहीं करना चाहते हैं, वे आसान पेपर का विकल्प चुन सकते हैं।

स्कूल दिनोदिन एडवांस होती टेक्नोलॉजी के साथ-साथ लगातार अपडेट होते रहे, इसके लिए सीबीएसई ने विद्यालयों में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस कोर्स शुरू करने का फैसला किया है। ये कोर्स सिलेबस में एक इलेक्टिव सब्जेक्ट के रूप में शामिल होगा।

बोर्ड की गवर्निंग बॉडी के एक सदस्य ने कहा, ‘एक स्किल सब्जेक्ट के तौर पर आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस कोर्स कोर शामिल करने का फैसला हाल ही में लिया गया। ये विषय 8वीं, 9वीं और 10वीं के सिलेबस में एक स्किल विषय में रूप में शामिल किया जाएगा।’

गवर्निंग बॉडी के सदस्य ने कहा, ‘आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, डाटा एनालिटिक्स और बिग डाटा जैसी टेक्नोलॉजी दुनिया भर में तेजी के साथ अपने पांव पसार रही है। ऐसे में बोर्ड को अपना करिकुलम भी आधुनिक बनाना होगा। सिलेबस में ताजा व जरूरी चीजें शामिल करनी होंगी। अगर जरूरत पड़ी तो बोर्ड नया विषय विद्यालयों को नए विषय की ट्रेनिंग भी देगा ताकि इसे अगले अकादमिक सत्र से लागू किया जा सके।’

Artificial Intelligence को मशीन इंटेलिजेंस भी कहा जाता है। एक मशीन में एक इंसान की तरह सामान्य रूप से सोचने, सीखने और कार्य करने की क्षमता होती है। इसकी गतिविधियों में भाषण मान्यता, सीखना, योजना, कुछ में समस्या-समाधान शामिल हैं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »