सीबीआई की कस्टडी में सौंपा अगस्टा वेस्टलैंड डील का दलाल क्रिश्चियन मिशेल

नई दिल्ली। इटली की कंपनी अगस्टा वेस्टलैंड के साथ वीवीआईपी चॉपर डील में हुए कथित घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को बुधवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने मिशेल को 5 दिन के लिए सीबीआई कस्टडी में सौंपा है। बता दें कि मंगलवार रात को उसे दुबई से भारत लाया गया था। भारत की जांच एजेंसियां लंबे समय से उसे भारत लाने का प्रयास कर रही थीं। यह ऑपरेशन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के नेतृत्व में चलाया गया।
कोर्ट में सीबीआई की तरफ से स्पेशल पब्लिक प्रोस्क्यूटर एडवोकेट डीपी सिंह पेश हुए हैं। सीबीआई ने मिशेल की पुलिस कस्टडी की मांग की है। वहीं आरोपी मिशेल की तरफ से एल्जो के जोसेफ पेश हुए हैं। डीपी सिंह ने कोर्ट से कहा कि हमें मिशेल की कस्टडी चाहिए ताकि हम कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों के बारे में पूछताछ कर सकें। सीबीआई ने कहा, ‘मामले की जांच चल रही है। हमें कस्टडी चाहिए क्योंकि दुबई के दो खातों में पैसा ट्रांसफर किया गया था।’
इस मामले में कई बड़े खुलासे होने की उम्मीद है। पूछताछ में मिशेल कई बड़े ब्यूरोक्रेट्स के नाम भी बता सकता है जो इस घोटाले में शामिल थे। आरोप है कि अगुस्टा वेस्टलैंड से मिशेल को रिश्वत के रूप में 225 करोड़ रुपये मिले थे। ईडी ने कहा था कि यह पैसा और कुछ नहीं, बल्कि कंपनी द्वारा 12 हेलीकॉप्टरों के समझौते को अपने पक्ष में कराने के लिए वास्तविक लेन-देन के ‘नाम पर’ दी गई ‘रिश्वत’ थी। मिशेल ने अपनी दुबई की कंपनी ग्लोबल सर्विसेज के जरिए धनराशि ली थी। जानकारी के मुताबिक इस डील में कोडवर्ड में कुछ नाम भी लिखे गए थे जनके मायने केवल मिशेल ही बता सकता है।
बता दें कि राफेल सौदे को लेकर पिछले कुछ दिनों से विपक्ष सरकार पर आक्रामक था। मिशेल के भारत आने से सरकार को विपक्ष को घेरने का भी मौका मिल जाएगा। पूछताछ के दौरान भी ऐसी बातें सामने आ सकती हैं जिनके जरिए बीजेपी को कांग्रेस पर हावी होने का मौका मिल जाए।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »