CBI का भ्रष्टाचार: CVC ने बताईं हैं गंभीर अनियमितताएं, आलोक वर्मा मुश्किल में

नई दिल्ली। CBI भ्रष्टाचार मामले में CVC जांच के बाद कई गंभीर अनियमितताएं पाई गई हैं। ऐसे में सरकार द्वारा छुट्टी पर भेजे गए CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा की मुश्किलें बढ़ सकती है। सुप्रीम कोर्ट इस मामले में CVC से जांच को और तेज करने के लिए कह सकती है। शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में पेश की गई CVC की रिपोर्ट में कई महत्वपूर्ण मामलों के अंदर गंभीर अनियमितताएं बरतने की बात कही गई है। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गई CVC रिपोर्ट में कहा गया है कि इनमें कई आरोपों की गंभीर जांच की जरूरत है।
CBI के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना ने आलोक वर्मा पर कई महत्वपूर्ण केसों में हस्तक्षेप करने का आरोप लगाया था। CVC से वर्मा पर लगे आरोपों में और गहराई तक जाने को कहा है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एस के कौल और के एम जोसेफ ने सीवीसी द्वारा लगाए गए आरोपों पर वर्मा से सोमवार दोपहर 1 बजे तक जवाब मांगा है। कोर्ट ने आगे की कार्यवाही के लिए 20 नवंबर की तारीख तय की है।
वर्मा का दो साल का कार्यकाल अगले साल जनवरी में पूरा हो रहा है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट द्वारा मामले की जांच आगे बढ़ाने के बाद उनका रिटायरमेंट से पहले अपने पद पर पहुंचना मुश्किल लग रहा है। कोर्ट का कहना है कि वर्मा के जवाब के बाद ही इस मामले में वह कोई फैसला देगी। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ऐ के पटनायक के नेतृत्व में की गई जांच की रिपोर्ट पर बेंच ने कहा, ‘यह जरूरी दस्तावेजों के साथ दाखिल की गई एक संपूर्ण रिपोर्ट है। इसे चार हिस्सों में बांटा जा सकता है। कॉम्पिलीमेंटरी, बहुत कॉम्पिलीमेंटरी, ज्यादा कॉम्पिलीमेंटरी नहीं, बहुत अनकॉम्पिलीमेंटरी (वर्मा की तरफ)’
शीर्ष अदालत ने आलोक वर्मा को लेकर सीवीसी रिपोर्ट की कॉपी राकेश अस्थाना के वकील को सौंपने से इंकार कर दिया। अस्थाना की ओर से पेश मुकुल रोहतगी ने सीवीसी की कॉपी की मांग की थी।
‘नागेश्वर राव के फैसलों में नहीं मिला कुछ गलत’
सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण के एनजीओ ‘कॉमन कॉज’ को फटकार लगाते हुए कहा कि उन्होंने CBI के अंतरिम डायरेक्टर नागेश्वर राव के फैसलों पर सवाल जरूर उठाए हैं, लेकिन यह नहीं बता रहे कि उनके फैसले गलत कैसे हैं।
सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान अंतरिम चेयरमैन नागेश्वर राव की ओर से लिए गए ट्रांसफर के फैसलों और मोइन कुरैशी केस में आरोपी हैदराबाद के कारोबारी सतीश बाबू सना की याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया। अदालत ने कहा कि अभी बड़ा सवाल यह है कि सरकार ने वर्मा को छुट्टी पर जाने के लिए क्यों कहा।
ट्रांसफर पर उठाया सवाल तो सीजेआई ने किया तंज
CBI के डीएसपी ए के बस्सी के वकील राजीव धवन ने कहा कि वह बहस करना चाहते हैं। इस पर सीजेआई गोगोई ने तंज करते हुए कहा, ‘तो आप उनमें से हैं, जिनका पोर्ट ब्लेयर ट्रांसफर किया गया है। यह एक अच्छी जगह है।’ सुप्रीम कोर्ट ने सीधे तौर पर बस्सी और कांग्रेस लीडर मल्लिकर्जुन खड़गे की याचिकाओं पर सुनवाई से इंकार कर दिया। अदालत ने कहा कि अभी इससे बड़े सवालों पर सुनवाई की जरूरत है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »