सीबीआई को ममता तक पहुंचा सकते हैं कमिश्नर के पास मौजूद लाल डायरी और पेन ड्राइव : भाजपा

कोलकाता। सीबीआई जांच के खिलाफ धरने पर बैठीं पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर बीजेपी ने जमकर निशाना साधा। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री ने इसे राजदारों को बचाने की कोशिश करार दिया। उन्होंने यह भी कहा कि चिटफंड घोटाले में ममता सरकार भागीदार है और इसलिए वह अपने राज बचाने की कोशिश कर रही हैं। जावड़ेकर ने कहा कि पश्चिम बंगाल में संविधान की हत्या हो रही है और मोदी सरकार को तानाशाह कहने वालीं ममता खुद तानाशाही पर उतर गई हैं।
ममता बनर्जी के धरने के समर्थन में आए विपक्षी दलों को भ्रष्टाचार का सहयोगी बताते हुए केंद्रीय मंत्री ने हमला बोला। उन्होंने कहा, ‘आज बहुत से विपक्षी दल ममता बनर्जी के समर्थन में इकट्ठा हुए हैं। यह महागठबंधन भ्रष्टाचार का बंधन है जो क्षेत्र के आधार पर बंटा है और भ्रष्टाचार के आधार पर जुड़ा है।’ बता दें कि संसद में भी आज विपक्षी दलों ने इस मुद्दे पर जमकर हंगामा किया।
राजीव कुमार के पास है लाल डायरी और पेन
बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने कहा कि पुलिस कमिश्नर के पास कई महत्वपूर्ण साक्ष्य हैं जिनसे सारदा चिटफंड घोटाले से पर्दा उठ सकता है। उन्होंने कहा, ‘राजीव कुमार के पास लाल डायरी और पेन ड्राइव है। ममता जी को डर है कि कहीं कमिश्नर के पास से निकले ये सबूत उन तक न पहुंच जाएं। यह देश में पहली बार हो रहा है जब राज्य की मुख्यमंत्री केंद्रीय जांच एजेंसी को जांच नहीं करने दे।
संविधान की हत्या हो रही है पश्चिम बंगाल में
बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने मोदी सरकार के तानाशाही के आरोपों पर कड़ा पवलटवार किया। उन्होंने कहा, ‘कल पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री सेना को, पुलिस को केंद्र सरकार के खिलाफ भड़का रही थीं। पश्चिम बंगाल में संविधान का शासन पूरी तरह से खत्म हो चुका है। धरना पर पुलिस अधिकारी, पुलिस कमिश्नर, एडीजी बैठे हैं। सरकारी अधिकारियों के धरने पर बैठना कौन से नियम का पालन है? मुख्यमंत्री पुलिस अधिकारी को बचाने के लिए धरना पर बैठी हैं।’
खुद तानाशाह बन चुकी हैं ममता बनर्जी
पुलिस कमिश्‍नर को बचाने के पीछे ममता के स्वार्थ का दावा करते हुए जावड़ेकर ने कहा, ‘जिसे (कमिश्नर) चिटफंड स्कैम के बारे में बहुत कुछ पता है उसे बचाने के लिए सीएम धरने पर हैं। मुझे आश्चर्य होता है कि वो मोदी सरकार को गाली दे रही हैं। तानाशाह तो आप हैं। यह कोई मोदी सरकार का आदेश नहीं है। सीबीआई को जांच का आदेश 10 मई 2014 को सुप्रीम कोर्ट ने जांच का आदेश दिया था। तब मोदी सरकार नहीं आई थी देश में। ऐसा कभी नहीं हुआ कि एक राज्य में सीबीआई को ही आने को मना कर दिया जाए। मोदी जी के गुजरात में सीबीआई जांच के लिए गए थे। जो शुद्ध सोना था वह निखरकर आया। यहां तो पूरी दाल ही काली है। यह 40 हजार करोड़ का घोटाला है। 100 से ज्यादा लोगों ने आत्महत्या की है। गरीबों का श्राप है। ममता जी धरने पर हैं, लेकिन अपनी जान बचाने के लिए।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »