चंबल की ये स्‍त्रियां- feminism से आगे की बात हैं

राजनैतिक रूप से लगातार उद्भव-पराभव वाले हमारे देश में कुछ निर्धारित हॉट टॉपिक्स हैं चर्चाओं के लिए। देश के सभी

Read more

Jerusalem विवाद में ट्रम्प ने डाला घी, भारतीय संस्कृति के भी चिन्ह मिले

Jerusalem को लेकर विवादों का पिटारा फिर से खुल गया है। वर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने यरुशलम को इजराइल की

Read more

ब्रह्मपुत्र मसले पर संजीदगी ज़रूरी

ब्रह्मपुत्र मूल के तिब्बती हिस्से में अपने हिस्से में अपनी हरकतों को लेकर चीन एक बार फिर विवाद में है।

Read more

किसी न किसी डांस बार पर जाकर ख़त्म होती हैं नेपाल के शहर की चकाचौंध भरी गलियां

नेपाल के शहर की चकाचौंध भरी ये गलियां किसी न किसी डांस बार पर जाकर ख़त्म होती हैं. यहां सूरज

Read more

1966 का गो-हत्‍या बंदी Andolan: हजारों साधुओं को इंदिरा गांधी ने गोलियों से भुनवा दिया था!

1966 के गो-हत्‍या बंदी Andolanमें जब संसद के सामने रोते और साधुओं की लाशें उठाते हुए करपात्री महाराज ने दिया

Read more

कोई नहीं जानता सऊदी अरब के राजकुमारों की सही संख्‍या

सऊदी अरब को जानने का दावा करने वाले भी पुख्ता तौर पर ये नहीं कह सकते कि वहाँ शासन करने

Read more

भारतीय राजनीति का नया फ़ैशन स्टेटमेंट बना कंधे पर पड़ा मोटा ”जनेऊ”

”जनेऊ” की ख़ास बात ये है कि आम तौर पर वो तब ही नज़र आती है जब पहनने वाला उघारे

Read more

हिंदी और हिंदुस्‍तान का दीवाना है दुबई का यह शेख

दुबई के स्थानीय अरब व्यापारी सुहैल मोहम्मद अल-ज़रूनी के सीने में हिंदी और हिंदुस्‍तान धड़कते हैं. वो बॉलीवुड के दीवाने

Read more

…वरना कहानियां भी भूत हो गई थीं

मान लीजिए पद्मावती रिलीज हो जाती है लेकिन उसको देखने के लिए न कोई टिकट खरीदता है और न ही

Read more

भंसाली जी! इतिहास प्रयोगधर्मी का सेट नहीं हो सकता

हाई बजट, ग्रेट स्‍ट्रैटजी, भव्‍य सेट और टॉप के कलाकारों के साथ अपनी फिल्‍म को ‘महान’ बताने के ‘आदी’ रहे

Read more

”बीत रहे समय” पर नज़र रही कुंवर नारायण जी की

एक एक कर चले जा रहे हैं सभी…आज ‘अयोध्‍या 1992’ पर कविता से भगवान श्री राम को मौजूदा हालात के

Read more

Chhattisgarh द्वारा भूजल उपयोग पर प्रतिबंध: एक बहस ज़रूरी है

05 नवम्बर को एक एजेंसी के हवाले से छपी एक खबर के मुताबिक, Chhattisgarh राज्य सरकार ने रबी की फसलों

Read more

ताज को ताज ही रहने दो, कोई नाम न दो…

देश इस वक्त बड़े ही अजीबो-गरीब वक्त से गुजर रहा है। भुखमरी, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, लूट, हत्या, बालात्कार, जैसी समस्याएं गौंड़

Read more