GTL ग्रुप के खिलाफ केनरा बैंक ने एनसीएलटी में केस दायर किया

मुंबई। सरकारी क्षेत्र के केनरा बैंक ने दूरसंचार बुनियादी ढांचा कंपनी GTL ग्रुप के खिलाफ बकाया कर्ज न चुकाने को लेकर राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में मामला दायर किया है। कंपनी ने इस बैंक से 459 करोड़ रुपये का कर्ज लिया था और उसे वह चुका नहीं रही है। बैंक का कंपनी पर बकाया 541 करोड़ रुपये हो गया है। संबंधित पक्षों ने शेयर बाजारों को अलग अलग यह सूचना दी है।
केनरा बैंक ने कहा है कि उसने GTL और जीटीएल इन्फ्रास्ट्रक्चर के विरुद्ध कंपनी के दिवालापन के मामले समाधान के लिए एक अर्जी लगायी है। पर जीटीएल का दावा है कि वह दूरसंचार क्षेत्र में कंपनियों के आपसी विलय/अधिग्रहणों की मारी है। उसका कहना है कि ऐसी परिस्थितियां पिछले 12 महीनों में उत्पन्न हुई हैं। इस दौरान एयरसेल, टाटा टेलीसर्विसेज और रिलायंस कम्युनिकेशन्स- ये तीन कंपनियां बंद हुईं और वोडाफोन का आइडिया के साथ तथा टेलीनोर का भारती एयरटेल में एकीकरण हुआ है। ये परिस्थितियां कंपनी के वश में नहीं थीं पर इनका कंपनी के कारोबार और संभावनाओं पर बुरा असर पड़ा है। GTL पर इस साल मार्च के अंत में कुल 6,502.44 करोड़ रुपये और जीटीएल इंफ्रास्ट्रक्चर पर 4,956.4 करोड़ रुपये का कर्ज था।
जीटीएल का शेयर मंगलवार को मुंबई बाजार में दोपहर के समय 2 प्रतिशत घट कर 5.79 रुपये और जीटीएल इन्फ्रास्ट्रक्चार का शेयर 5 प्रतिशत घट कर 1.35 रुपये पर चल रहा था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »