नक्सलवाद में क्रांति देखने वाले छत्तीसगढ़ का भला नहीं कर सकते: अमित शाह

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कांग्रेस पर ‘अर्बन नक्सल’ का समर्थन करने का आरोप लगाने के बाद अब बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी निशाना साधा है। शनिवार को रायपुर में छत्तीसगढ़ चुनाव के लिए पार्टी का संकल्प-पत्र जारी करते हुए शाह ने कांग्रेस पर सीधा हमला बोला। उन्होंने कहा कि जिस पार्टी को नक्सलवाद में क्रांति दिखाई पड़ती हो, नक्सलवाद क्रांति का माध्यम दिखाई पड़ता हो, वह पार्टी छत्तीसगढ़ का भला नहीं कर सकती है। बीजेपी प्रेसीडेंट ने कहा कि हमें गरीबों के घर गैस पहुंचाने, उद्योग लगाकर रोजगार दिलाने, किसानों को ज्यादा समर्थन मूल्य देने जैसे कार्यों में क्रांति दिखाई देती है।
उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ के हजारों बुद्धिजीवियों, महिला, युवा, किसानों और आम लोगों से संपर्क कर यह चुनावी एजेंडा सामने रखा गया है। मुख्यमंत्री रमन सिंह की तारीफ करते हुए शाह ने कहा कि इस सरकार ने विकास के सारे रेकॉर्ड तोड़ दिए। उन्होंने आगे कहा कि रमन सरकार ने पिछले 15 वर्षों में राज्य की तस्वीर बदल दी है और नक्सलवाद से क्षेत्र को मुक्त करने का काम किया है। शाह ने आगे कहा कि कांग्रेस ने करीब-करीब 55 साल शासन किया है लेकिन देश के अंतिम व्यक्ति तक विकास पहुंचाने का काम केंद्र की मोदी सरकार और राज्य में भाजपा सरकारें कर रही हैं।
नवा छत्तीसगढ़ बनाने का संकल्प
शाह ने कहा कि पहले छत्तीसगढ़ की पहचान पिछड़े राज्य के तौर पर होती थी, लेकिन आज यह पावर हब, शिक्षा हब जैसे तमाम क्षेत्रों में सेंटर बनकर उभर रहा है। बीजेपी प्रेसीडेंट ने कहा कि यहां का 2018 का चुनाव बीजेपी के लिए ‘नवा छत्तीसगढ़’ का निर्माण करने का चुनाव है। उन्होंने कहा कि हमें भरोसा है कि लोगों के आशीर्वाद से हम चौथी बार सरकार में आएंगे।
गिनाए रमन सरकार के काम
बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, ‘अभी एक मणिकंचन योग है। केंद्र में मोदी जी की सरकार है और राज्य में रमन सिंह की सरकार है और ये दोनों सरकारें राज्य को और आगे ले जाएंगी।’ रमन सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में अंत्योदय को प्राथमिकता दी गई। फ्री नमक, साइकिल, चरणपादुका और 1 रुपये किलो चावल दिया गया। कृषि की लागत में सबसे ज्यादा कमी रमन सरकार द्वारा की गई। धान और बाकी उपजों की खरीद के लिए अहम व्यवस्था की। उन्होंने बताया कि किसानों को अल्पकालीन ऋण शून्य ब्याज दर पर उपलब्ध करवाने वाला पहला राज्य छत्तीसगढ़ बना।
शाह ने कहा कि राशन की दुकानों का सरकारीकरण किया गया और इसके लीकेज को जीरो किया गया। स्किल डेवेलपमेंट के लिए अपना कानून बनाने वाला पहला राज्य छत्तीसगढ़ बना। मनरेगा को भ्रष्टाचार विहीन तरीके से आगे बढ़ाया गया। इसके तहत 50 दिन का अतिरिक्त रोजगार छत्तीसगढ़ सरकार ने दिया। गर्भवती माताओं को पेमेंट के साथ छुट्टी दी गई।
‘मोदी सरकार में केंद्र से फंडिंग बढ़ी’
उन्होंने बताया कि जब केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी तब छत्तीसगढ़ सरकार को 48,088 करोड़ रुपये मिलते थे। बीजेपी की सरकार में 14वें वित्त आयोग के समय राज्य के लिए राशि बढ़ाकर 1,37,927 करोड़ रुपये कर दी गई। सीएम रमन सिंह ने संकल्प पत्र की मुख्य बातों को सामने रखते हुए कहा कि कांग्रेस ने किसानों को वोट बैंक की तरह देखा और उनका इस्तेमाल किया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »