Yug Pharmaceutical कम्पनी का कैम्पस प्लेसमेंट

 Yug Pharmaceutical मेें संस्कृति यूनिवर्सिटी के छात्र-छात्राएं बने मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव

मथुरा। गुरुवार सात जून का दिन संस्कृति यूनिवर्सिटी के एम.एस.सी. इंडस्ट्रियल केमेस्ट्री और एम.एस.सी. एग्रीकल्चर, एम.एस.सी. बायोटेक के छात्र-छात्राओं के लिए सफलता की सौगात लेकर आया। युग ग्रुप कम्पनीज की मशहूर युग फार्मास्युटिकल कम्पनी ने गुरुवार को अपने कैम्पस प्लेसमेंट में संस्कृति यूनिवर्सिटी के पांच छात्र-छात्राओं को मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव के पद पर सेवा का अवसर प्रदान किया। चयनित छात्र-छात्राओं में दाऊदयाल, दीपशिखा सिकरवार, रितु मावई, भगत सिंह तथा वीरपाल सिंह चौधरी शामिल हैं।

दवा निर्माण के क्षेत्र में जानी-पहचानी नई दिल्ली की  युग फार्मास्युटिकल कम्पनी ने गुरुवार को संस्कृति यूनिवर्सिटी में कैम्पस प्लेसमेंट किया। इस कैम्पस प्लेसमेंट में संस्कृति यूनिवर्सिटी के एम.एस.सी. इंडस्ट्रियल केमेस्ट्री, एम.एस.सी. बायोटेक और एम.एस.सी. एग्रीकल्चर के छात्र-छात्राओं ने अपनी कुशाग्रबुद्धि का परिचय दिया। छात्र-छात्राओं की प्रतिभा का आकलन करने से पूर्व कम्पनी की निदेशक वित्त अर्चा जैन, सीईओ संजय कुमार शर्मा, रीजनल मैनेजर सद्दाम हुसैन, एरिया सेल्स मैनेजर हरेन्द्र रावत और बिजनेस एक्जीक्यूटिव अजय कुमार ने युग फार्मास्युटिकल कम्पनी के बारे में विस्तार से जानकारी दी। कम्पनी की निदेशक वित्त अर्चा जैन ने बताया कि दवा निर्माण के क्षेत्र में युग फार्मास्युटिकल कम्पनी किसी परिचय की मोहताज नहीं है।

सीईओ संजय कुमार शर्मा ने बताया कि आज के समय में फार्मास्युटिकल के क्षेत्र में युवाओं के लिए शानदार करियर है। मेडिकल क्षेत्र में हो रहे आशातीत विकास के कारण मेडिसिन मार्केट भी कॉमर्शियल रूप से काफी तरक्की कर रहा है। आज दवा निर्माण के क्षेत्र में भारतीय कम्पनियां देश ही नहीं विदेश में भी अपनी गुणवत्ता की छाप छोड़ रही हैं। युग फार्मास्युटिकल कम्पनी भी लोकप्रियता के मामले में किसी से कम नहीं है। युग फार्मास्युटिकल के पदाधिकारियों ने कम्पनी की कार्यप्रणाली से अवगत कराने के बाद छात्र-छात्राओं की लिखित परीक्षा ली, इसके बाद उनकी कम्प्यूटर में कार्य करने की क्षमता का भी मूल्यांकन किया। अंत में छात्र-छात्राओं का साक्षात्कार लिया गया जिसमें पांच विद्यार्थियों को कम्पनी ने बतौर मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव सेवा का अवसर प्रदान किया।

संस्कृति यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति सचिन गुप्ता, उप-कुलाधिपति राजेश गुप्ता, कार्यकारी निदेशक पी.सी. छाबड़ा, कुलपति डा. राणा सिंह, प्रति-कुलपति डा. अभय कुमार ने इस सफलता पर छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए उज्ज्वल भविष्य की कामना की। हेड कार्पोरेट रिलेशन आर.के. शर्मा का कहना है कि शिक्षा पूरी करने से पहले ही बड़ी कम्पनियों में जाब मिलने की मुख्य वजह संस्कृति यूनिवर्सिटी द्वारा दी जा रही उच्चस्तरीय तालीम है। मैनेजर कार्पोरेट रिलेशन तान्या उपाध्याय का कहना है कि हर स्टूडेंट में कुछ न कुछ खास बात होती है। खुशी की बात है कि यहां लगातार बड़ी-बड़ी कम्पनियां न केवल प्लेसमेंट को आ रही हैं बल्कि यहां के छात्र-छात्राओं को सेवा का अवसर भी प्रदान कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »