कैफ़े कॉफ़ी डे के मालिक वी जी सिद्धार्थ कल से लापता

भारत की सबसे बड़ी कॉफ़ी चेन कैफ़े कॉफ़ी डे जिसे सीसीडी के नाम से भी जाना जाता है, इस कंपनी के मालिक वी जी सिद्धार्थ के लापता होने की ख़बर है.
वी जी सिद्धार्थ कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एस एम कृष्णा के दामाद भी हैं. वे सोमवार रात से लापता बताए जा रहे हैं. अंदेशा लगाया जा रहा है कि उन्होंने आत्महत्या के मक़सद से नदी में छलांग ली है.
फिलहाल मैंगलोर पुलिस उनकी तलाश कर रही है. बताया जा रहा है कि वी जी सिद्धार्थ अपनी कार में बैठकर मैंगलोर के बाहरी इलाके तक गए और वहां नेत्रावती नदी के नज़दीक पहुंचने पर उन्होंने ड्राइवर से कार रोकने को कहा.
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, ”उन्होंने ड्राइवर से चले जाने के लिए कहा और बताया कि वो पैदल चलकर आएंगे.”
इसके काफ़ी देर बाद तक जब वी जी सिद्धार्थ लौटकर नहीं आए तो ड्राइवर ने इसकी सूचना बाक़ी लोगों को दी.
नुकसान में चल रही थी कंपनी
पुलिस ने बताया कि उनके मोबाइल पर कॉल किया गया लेकिन वह स्विच ऑफ़ आ रहा है.
मैंगलोर के पुलिस कमिश्नर संदीप पाटिल ने बताया है कि दो टीमों को नदी में खोजी अभियान के लिए भेजा गया है.
सीसीडी की पूरे भारत में लगभग 1,750 कैफ़े हैं. इसके अलावा मलेशिया, नेपाल और मिस्र में भी सीसीडी के कैफ़े हैं.
स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि पिछले दो साल में लगातार बढ़ती प्रतिस्पर्धा के चलते सीसीडी को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा था. कंपनी ने कई जगहों पर अपने छोटे आउटलेट बंद भी कर दिए थे.
इसके साथ ही ऐसी ख़बरें भी मीडिया में लगातार आ रही थीं कि वी जी सिद्धार्थ सीसीडी को कोका कोला कंपनी में बेचने पर विचार कर रहे हैं. हालांकि इस ख़बर की पुष्टि नहीं हो सकी है.

इस बीच सिद्धार्थ का लिखा एक पत्र भी सामने आया है। तीन दिन पहले लिखे गए इस खत में सिद्धार्थ ने अपनी परेशानियों का जिक्र किया है। पत्र में कंपनी को हो रहे नुकसान और भारी कर्ज की बात की गई है। इसके अलावा आयकर विभाग के एक पूर्व डीजी के दबाव की भी चर्चा है।
पत्र में सिद्धार्थ ने लिखा- देनदारों का दबाव
सिद्धार्थ के लापता होने के बाद यह लेटर सामने आया है जो 27 जुलाई को लिखा गया है। इसमें उन्होंने बोर्ड ऑफ डायरेक्टर और सीसीडी (Cafe Coffee Day) परिवार से कहा है कि 37 साल बाद वह अपनी तमाम कोशिशों के बाद भी एक सही और फायदे वाला बिजनेस मॉडल तैयार नहीं कर सके हैं।
लंबे समय तक लड़ा पर अब हार मानता हूं
उन्होंने लिखा है, ‘जिन लोगों ने मुझ पर विश्वास किया उन्हें निराश करने के लिए मैं माफी चाहता हूं। मैं लंबे समय से लड़ रहा लेकिन आज मैं हार मानता हूं क्योंकि मैं एक प्राइवेट इक्विटी लेंडर पार्टनर का दबाव नहीं झेल पा रहा हूं, जो मुझे शेयर वापस खरीदने के लिए फोर्स कर रहा है। इसका आधा ट्रांजैक्शन मैं 6 महीने पहले एक दोस्त से बड़ी रकम उधार लेने के बाद पूरा कर चुका हूं।’ उन्होंने कहा है कि दूसरे लेंडर भी दबाव बना रहे थे जिस कारण वह हालात के सामने झुक गए हैं।
आयकर विभाग के पूर्व डीजी पर प्रताड़ना का आरोप
सिद्धार्थ ने अपने खत में आयकर विभाग के एक पूर्व डीजी पर प्रताड़ना का आरोप भी लगाया है। उन्होंने कहा है कि एक पूर्व डीजी ने उनके शेयर्स को दो बार अटैच किया जिससे माइंडट्री के साथ उनकी डील ब्लॉक हो गई और फिर कॉफी डे के शेयर्स की जगह ले ली जबकि संशोधित रिटर्न्स उनकी ओर से फाइल किए जा चुके थे। सिद्धार्थ ने इसे अनुचित बताया है और लिखा है कि इसके कारण पैसे की कमी हो गई थी।
‘जानकारी छिपाई, सिर्फ मैं जिम्मेदार’
सिद्धार्थ ने लेटर में अपने स्टाफ से नए मैनेजमेंट के साथ बिजनस चलाने के लिए कहा। उन्होंने हर गलती के लिए खुद को जिम्मेदार बताया है। उन्होंने लिखा है, ‘हर फाइनैंशल ट्रांजैक्शन मेरी जिम्मेदारी है। मेरी टीम, ऑडिटर्स और सीनियर मैनेजमेंट को मेरे सारे ट्रांजैक्शन्स के बारे में कुछ नहीं पता। कानून को मुझे और सिर्फ मुझे जिम्मेदार बताना चाहिए क्योंकि मैंने यह जानकारी सबसे छिपाई, अपने परिवार से भी।’
‘धोखा देना नहीं था मकसद,
सिद्धार्थ ने खत में सफाई दी है कि उनका मकसद किसी को धोखा देने या गुमराह करने का नहीं था। उन्होंने खुद को एक असफल ऑन्त्रप्रन्योर बताया है और आशा की है कि उन्हें समझा और माफ किया जाएगा। खत के साथ उन्होंने अपनी संपत्तियों का ब्योरा और कीमत भी बताई है और कहा है कि उन पर चढ़े कर्ज से ज्यादा कीमत उनकी संपत्तियों की है, जिससे सभी का बकाया चुकाया जा सकता है।
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *